कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए कैदियों को पैरोल में रिहा करने का आदेश

 कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए कैदियों को पैरोल में रिहा करने का आदेश


रायपुर । भारत समेत पूरी दुनिया में तबाही मचा रहे कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे के बीच  देश के शीर्ष अदालत ने देश के जेलों में   सात साल से कम सजा वाले कैदियों को छह हफ्ते के लिए पैरोल या अंतरिम जमानत में रिहा करने का फैसला लिया है। 


सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का असर रायपुर के सेंट्रल जेल पर भी पड़ेगा।  जेल में बंद करीब 130 सजा काट रहे कैदियों को रिहा किया जा सकता है। इसके अलावा करीब ढाई सौ से ऐसे हवालातियों को भी इसका लाभ मिलेगा। जिनका मामला अण्डर  ट्रायल है और सात साल से कम सजा इन्हें मिल सकती है। 


सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद रायपुर   सेंट्रल जेल में कैदियों और हवालातियों की सूची तैयार करने का काम जेल प्रशासन ने शुरू कर दिया है। 

कुछ मामले सात साल से ज्यादा है ऐसे मामले में उन्हें इस आदेश से राहत नहीं मिलेगी देश में कोरोना का खतरा दिन पर दिन बढ़ता ही जा रहा है। देश की शीर्ष अदालत ने आदेश देते हुए कहा कि प्रदेश सरकार इस ,मामले को लेकर हाई पावर कमेटी  का गठन करें। इस पावर कमेटी में  विधि सचिव , राज्य विधिक प्राधिकरण के अधयक्ष ,जेल डीजी शामिल होंगे।  

चंद्र शेखर अग्रवाल 

(आज की जनधारा)