breaking news New

कोरोना के गिरफ्त में पूरा पाकिस्तान, नियंत्रण से बाहर चौथी कोविड लहर

कोरोना के गिरफ्त में पूरा पाकिस्तान,  नियंत्रण से बाहर चौथी कोविड लहर

इस्लामाबाद । पाकिस्तान में कोविड-19 महामारी की चौथी लहर के धीमी होने का कोई संकेत नहीं दिख रहा है। सुबह देश में सक्रिय मामलों की संख्या 60 हजार से अधिक दर्ज की गई है। पाकिस्तान ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया कि नेशनल कमांड एंड ऑपरेशन सेंटर्स (एनसीओसी) के आंकड़ों से पता चला है कि पाकिस्तान ने पिछले 24 घंटों में 86 और लोगों को वायरस के कारण खो दिया है, जिससे देश में कोविड की मौत का आंकड़ा 23,295 हो गया है।

एनसीओसी के आंकड़ों के अनुसार, देश में फिलहाल टेस्ट पॉजिटिविटी रेट 7.79 प्रतिशत दर्ज किया गया है।

एनसीओसी ने कराची में बीमारी के प्रसार की गंभीर समीक्षा की और बीमारी की बढ़ती प्रवृत्ति से निपटने में प्रांतीय सरकार की सहायता के लिए हर संभव उपाय करने का फैसला किया।

कराची में दो सप्ताह का लॉकडाउन लगाया जाएगा या नहीं, इस पर फैसला लेने के लिए कोरोनावायरस मामलों पर प्रांतीय टास्क फोर्स की बैठक होगी।

रिपोर्ट में कहा गया है कि सिंध के स्वास्थ्य विभाग ने कराची में महामारी के प्रसार को रोकने के लिए दो सप्ताह के पूर्ण लॉकडाउन की सिफारिश की है, क्योंकि पॉजिटिविटी रेट खतरनाक रूप से 30 प्रतिशत से अधिक हो गई है।

कराची में कोविड के पुनरुत्थान की अस्थिर परिस्थितियों को देखते हुए, टास्क फोर्स को शहर में पूर्ण लॉकडाउन लागू करने का एक मजबूत प्रस्ताव मिला है।

चिकित्सा विशेषज्ञों और स्वास्थ्य विभाग ने दो सप्ताह के लिए इंटर-सिटी और इंट्रा-सिटी आवागमन को रोकने का सुझाव दिया है।

तदनुसार, सिंध सरकार ने घोषणा की कि कोविड के प्रसार को रोकने के लिए प्रांत में 8 अगस्त तक लॉकडाउन की जाएगी, जहां स्थिति अब नियंत्रण से बाहर हो रही है। मुख्यमंत्री मुराद अली शाह की अध्यक्षता में सीएम हाउस में प्रांतीय टास्क फोर्स की बैठक में यह निर्णय लिया गया। बैठक में राजनीतिक दलों के संसदीय नेताओं को भी आमंत्रित किया गया था।

बैठक में निर्णय लिया गया कि सरकारी कार्यालय अगले सप्ताह से बंद रहेंगे जबकि जिन लोगों का टीकाकरण नहीं हुआ है उन्हें 31 अगस्त के बाद वेतन नहीं मिलेगा। यह भी निर्णय लिया गया कि सड़कों पर किसी के भी टीकाकरण कार्ड की जांच के लिए पुलिस को अधिकृत किया जाएगा।

प्रांतीय सरकार ने यह भी निर्णय लिया है कि प्रांत के सभी बाजार बंद रहेंगे। हालांकि, निर्यात उद्योग और फार्मेसियों को खुले रखने की अनुमति होगी।