पीलिया क्षेत्रों में निरीक्षण के दौरान पानी में मिले लीवर डैमेज करने वाले बैक्ट्रिया

पीलिया क्षेत्रों में निरीक्षण के दौरान पानी में मिले लीवर डैमेज करने वाले बैक्ट्रिया


रायपुर ।   राजधानी में पीलिया प्रभावित क्षेत्रों का निरीक्षण के दौरान पानी में लीवर डैमेज करने वाले बैक्ट्रिया मिले हैं। पानी का सैंपल जांच के लिए मेडिकल कॉलेज भेजा जा रहा है। सोमवार को 52 पीलिया के मरीज मिले थे। 

सोमवार को इन प्रभावित क्षेत्रों में लगे शिविर में 170 लोगों की जांच की गई, जिसमें से 90 लोग संभावित मिले हैं। इनका ब्लड जांच के लिए जिला अस्पताल भेजा गया है। बतादें कि  प्रभातिव क्षेत्रों में 3 अप्रैल से अब तक पीलिया के 245 मरीज मिल चुके हैं।

 राजधानी के स्वीपर कॉलोनी आमारापारा से पीलिया का प्रकोप शुरू हुआ था , अब यह रायपुर के बीएसयूपी सड्डू्र बजरंग पारा, खपराभट्टी, चंगोराभाठा, शिवनगर,   खोखोपारा, विजय नगर, कचना क्रॉसिंग के पास, भैरवनगर मठपुरैना,  मस्जिदपारा मोवा, एकता चौक सड्डू स्कूल पारा, दलदल शिवनी, अटारी नंदनवन भाठापारा, टाटीबंध और बीएसयूपी भाठागांव में फैल चुका है।

ईदगाहभाठा, स्वीपर कॉलोनी, मंगल बाजार एवं चंगोराभाठा का पानी सैंपल जांच के लिए भेजा गया था, जिसमें ई-कोलाई, सूडो मोनास, प्रोटियाज, क्लेब सियेला नाम के बैक्टीरिया पाए गए थे। दो दिन पहले लक्ष्मी नारायण वार्ड के सोनकर पारा, गोगांव, बीएसयूपी कॉलोनी, राजेंद्र नगर के जनता क्वार्टर मदर टेरसा वार्ड का पानी सैंपल भेजा गया था। यहां की रिपोर्ट मिल गई है, जिसमें सूडो मोनास और कोलिफ ार्म नाम के बैक्टीरिया पाए गए हैं। 

 स्वास्थ्य विभाग ने काम्बेट टीम का गठन किया है। इसमें दो चिकित्सा अधिकारी, एक आरएमए, 4 एएनएम, एक आरएचओ तथा संबंधित क्षेत्र की मितानिनें शामिल हैं। प्रभावित क्षेत्रों में शिविर लगाकर जांच किया जा रहा है। मितानिन घर-घर जाकर  क्लोरीन टेबलेट का वितरण भी कर रही है ।

डॉ. मीरा बघेल, सीएमएचओ रायपुर ने कहा कि शहरी कार्यक्रम के अंतर्गत पदस्थ एएनएम व मितानिन घर-घर जाकर पीडि़तों साफ़ सफाई, दूषित जल  और उचित का खानपान सलाह दे रही है। व्यवस्था जिला चिकित्सालय और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में पीलिया पीड़ित की इलाज चल रहा है।

chandra shekhar