breaking news New

शासन-प्रशासन द्वारा अलग-अलग नियमों का हवाला दिये जाने पर सारे विद्यार्थी स्वयं को ठगा हुआ महसूस कर रहे - एबीवीपी

शासन-प्रशासन द्वारा अलग-अलग नियमों का हवाला दिये जाने पर सारे विद्यार्थी स्वयं को ठगा हुआ महसूस कर रहे - एबीवीपी

धमतरी, 18 जून। वंदे मातरम आप सभी को पता है धमतरी जिले में स्थित निजी महाविद्यालय में पीजीडीसीए के विद्यार्थियों को पिछले साल के मुकाबले इस वर्ष के छात्रवृत्ति में भारी मात्रा में कटौती की गई है जिसके चलते विद्यार्थियों को बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा 19 मार्च को कलेक्टरेट घेराव कर इस विषय पर जिलाधीश महोदय को संज्ञान दिलाया गया एवं 10 जून को विद्यार्थी परिषद द्वारा पुनः सूचनार्थ ज्ञापन जिलाधीश महोदय को दिया गया था परंतु अभी तक इस विषय में किसी भी प्रकार की उचित जानकारी छात्र छात्राओं को नहीं मिली है ऐसे में सभी छात्र-छात्राओं का चिंतित होना स्वाभाविक सी बात है एवं शासन प्रशासन द्वारा अलग अलग नियमों का हवाला दिये जाने पर सारे विद्यार्थी स्वयं को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। 

महाविद्यालयों में अध्ययनरत छात्र छात्राओं को कहना है कि  जब हमने कॉलेज में एडमिशन के लिये गये थे तब वहां के अधिकारियों द्वारा हमें आश्वासन  दिया गया था कि हमारे द्वारा लिये गये शुल्क मेसे लगभग 18000 रुपये  स्कॉलरशिप के माध्यम से शासन द्वारा प्रदान की जायेगी किंतु इस वर्ष मात्र 5295  एवं कुछ  छात्रों को 3000 तक की छात्रवृत्ति सभी छात्रों के खातों में शासन द्वारा जमा किया गया है एवं शासन प्रशासन से जवाब मंगने पर छात्रो को बहुत से अलग अलग नियम बताये जा रहे हैं एवं महाविद्यालय में इस विषय पर चर्चा करने पर महाविद्यालय प्रशासन से छात्रो को  ना ही कोई जवाब मिल पा रहा है और ना ही हमें हमारे इस मामले मे कोई उचित जानकारी दी जा रही है। विद्यार्थी परिषद  शासन प्रशासन से जल्द से जल्द इस  विषय में उचित कार्यवाही करने का मांग करती है अन्यथा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद इस अन्याय के खिलाफ सड़क की लड़ाई लड़ने के लिये पूर्ण रूप से तैयार है।