breaking news New

विधानसभा ब्रेकिंग : सीएम बनने के लिए विधायक की हत्या हो सकती है..विपक्षी भाजपा के इस बयान से सदन गरमाया..नेता प्रतिपक्ष धरम लाल कौशिक ने उठाई जांच कमिटी की मांग..सिंहदेव भी निशाने पर रहे

विधानसभा ब्रेकिंग : सीएम बनने के लिए विधायक की हत्या हो सकती है..विपक्षी भाजपा के इस बयान से सदन गरमाया..नेता प्रतिपक्ष धरम लाल कौशिक ने उठाई जांच कमिटी की मांग..सिंहदेव भी निशाने पर रहे

अनिल द्विवेदी

रायपुर. छत्तीसगढ़ विधानसभा में आज विधायक बृहस्पति सिंह के साथ दुर्व्यवहार का मामला उठा. नेता प्रतिपक्ष धरम लाल कौशिक ने इस मुद्दे की जांच कराने तथा जांच कमिटी बनाने की मांग की। 

ताज़ा मानसून सत्र की शुरुआत दिवंगत पूर्व विधायकों को श्रद्धांजलि देने के साथ हुई। सदन की कार्यवाई शुरू हुई तो नेता प्रतिपक्ष धरम लाल कौशिक ने कहा कि सदन में इस पर चर्चा की जानी चाहिए यह बहुत गंभीर मामला है. सदन के सदस्य के साथ कुछ गुंडों अराजक तत्वों ने दुर्व्यवहार किया है इसकी जांच होनी चाहिए तथा इसके पहले सदन में इस पर चर्चा की जानी चाहिए।

विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने उनका साथ देते हुए कहा कि अध्यक्ष जी आप के कार्यकाल में बहुत निंदनीय घटना हुई है। इस पर मंत्री रविन्द्र चौबे ने पलटवार करते हुए कहा कि जितनी चिंता आपको विधायक की सुरक्षा की है, उतनी ही हमे है। 

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि मंत्री और विधायकों के बीच असंतोष बढ़ता जा रहा है। आपसी संवाद खत्म हो रहा है। चिट्ठी पत्री से से विरोध जताया जा रहा है. इस पर सत्ता पक्ष के विधायकों ने आपत्ति की। विपक्ष ने गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू से भी इस मुद्दे पर स्पष्टीकरण देने की मांग की। 

 विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि अध्यक्ष जी हम आपसे व्यवस्था चाहते हैं और आग्रह है कि इस विषय पर चर्चा की जाए। इसका सत्ता पक्ष के विधायकों ने विरोध किया। उन्होंने कहा कि जरूरी मुद्दों पर चर्चा की जानी चाहिए, यह विवाद कल ही खत्म हो चुका था, आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है। विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि मंत्री खुद आरोपी हैं और उन पर गंभीर आरोप लगे हैं, वे इसका जवाब कैसे दे सकते हैं। 

नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि इस विवाद के बाद मुख्यमंत्री का पद भी कटघरे में है। पीड़ित सदस्य ने मांग की है कि मुख्यमंत्री बनने के लिए विधायक की हत्या भी हो सकती है। यह सदन के लिए चिंतनीय होना चाहिए। इसलिए इसकी जांच एक कमिटी बैठाकर होना चाहिए। इस मामले पर अजय चंद्राकर विधायक बृजमोहन अग्रवाल, शिवरतन शर्मा, ननकीराम कंवर इत्यादि ने अपनी बात रखी।

इस पर व्यवस्था देते हुए विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महन्त ने कहा कि मैंने आपके पक्ष को सुन लिया है और मुझे सत्ता पक्ष से इस पर चर्चा करनि होगी। संसदीय कार्य मंत्री से भी  चर्चा करनी होगी। उसके बाद ही मैं कोई व्यवस्था दे पाऊंगा लेकिन विपक्ष का हंगामा जारी रहा। सदन की कार्यवाई स्थगित हो गई।