breaking news New

बच्चों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए कलेक्टर ने उज्जवल भविष्य की कामना की और सफलता के टिप्स भी दिए

 बच्चों को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए कलेक्टर ने उज्जवल भविष्य की कामना की और सफलता के टिप्स भी दिए

रायपुर।  रायपुर के जिला कलेक्टर डा. भारती दासन ने कक्षा नौवीं से 12वीं तक के किशोर बच्चों को पढ़ाई में सफलता के टिप्स भी दिए। आज विश्व बाल दिवस के  विशेष मौके पर  बच्चों ने  कलेक्ट्रेट पहुंच कर जिला कलेक्टर डा. भारती दासन से  मुलाकात की  और पढ़ाई में सफलता के टिप्स भी प्राप्त किए।

कलेक्टर ने इन बच्चों को हार्दिक शुभकामनाएं दीं और उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। कलेक्टर ने बच्चों से कहा कि दिमाग कोई कंप्यूटर नहीं है, जिसका साफ्टवेयर पूरी की पूरी बातें अडाप्ट कर ले। दिमाग को धीरे-धीरे ट्रेंड करना पड़ता है। यही कारण है कि जैसे-जैसे बच्चे उच्च कक्षा में जाते हैं, उनकी क्षमताओं ,योग्यताओं के अनुसार उनके पढ़ाई का स्तर भी ऊंचा होता जाता है।

आनलाइन गेमिंग की वजह से बच्चों के भटकाव की समस्या के समाधान पर कलेक्टर ने कहा कि आप स्वयं यह तय करते हैं कि आपको अपना दिमाग कहां और कितना लगाना है। मेडिटेशन एक बहुत अच्छा जरिया है ,धीरे-धीरे कोशिश करनी चाहिए कि आनलाइन मोबाइल गेम आदि से मन हटे। इसके लिए सबसे पहले इस गेम में लगने वाले समय को कम करने की जरूरत है।

इसी तरह बुक रीडिंग जैसी अच्छी आदतों को अपनाने की जरूरत है। कलेक्टर ने बच्चों से कहा कि यह आप ही हैं जो किसी भी चीज को संभव या असंभव बनाते हैं। कलेक्टर ने कहा जो भी कार्य करें मन लगाकर करें और उसके काफी अभ्यास से आप निश्चय ही सफल होंगे।  उन्होंने  कहा - माइंड को फ्रेश करना जरूरी है, लेकिन पढ़ाई के समय बैठकर सपने देखना गुनाह है। सपने अवश्य देखें, लेकिन पढ़ाई के समय पूरा ध्यान पढ़ाई में लगाए।

कलेक्टर डा. भारतीदासन ने कहा कि कलेक्टर बनना कठिन नहीं है, थोड़ा मुश्किल अवश्य है। मगर, अगर आप दिमाग में बसा लें, तो यह कार्य धीरे-धीरे संभव हो जाएगा। कलेक्टर ने कहा आप अपने सबसे बड़े जज हो सकते हैं कि आप कहां गलती कर रहे हैं या कहां कमी है? उन्होंने अपने बारे मे बताया कि उन्होंने कृषि में बीएससी, एमएससी और पीएचडी की है। 

डा. भारतीदासन ने कहा कि टाइम टेबल बना कर पढ़ें और कहीं भी अपनी पढ़ाई से संतुष्ट न हो क्योंकि और अच्छी मेहनत और प्रयास करने की गुंजाइश हमेशा रहती है।

इस अवसर पर यूनिसेफ के प्रतिनिधि ने बताया कि आज विश्व बाल दिवस है और इस अवसर पर हमारा प्रयास है कि बच्चों को कलेक्टर के प्रेरक संबोधन से प्रोत्साहित किया जाए, जिससे इन बच्चों के साथ-साथ अन्य बच्चे भी अपने जीवन को और बेहतर बनाने के लिए प्रेरित हों।