breaking news New

सतनाम भवन को तोड़े जाने और जैतखाम को जलाए जाने को लेकर समाज ने राज्यपाल के नाम सौंपा ज्ञापन

सतनाम भवन को तोड़े जाने और जैतखाम को जलाए जाने को लेकर समाज ने राज्यपाल के नाम सौंपा ज्ञापन

रायपुर। कवर्धा जिला के अंतर्गत ग्राम धरमपुरा में सतनाम भवन को तोड़े जाने और सबके आस्था के प्रतीक जैतखाम को जलाए जाने को लेकर  छत्तीसगढ़  जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) अनूसुचित जाति मोर्चा के जिला अध्यक्ष भगतराम हरबंश ने कहा  इस घटना से समाज व्यथित और गुस्से में है।   

 jccjअनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष उदय चरण बंजारे के नेतृत्व में महामहिम राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया इस दौरान प्रदेश अध्यक्ष उदय चरण बंजारे ने कहा छत्तीसगढ़ के इतिहास में यह पहला अवसर है जब सतनाम का अलख जगाने वाले संत शिरोमणि बाबा गुरूघासी दास जी के अनुयायी सतनामी समाज के साथ खिलवाड़ हो रहा है, कभी हमारे हमारे गुरूद्वारा को तोड़ दिया जाता है तो कभी हमारे आस्था के केन्द्र जैतखाम को जला दिया जाता है, भूपेश सरकार, सतनामी समाज की धैंर्य की परीक्षा मत ले अन्यथा ईट का जवाब पत्थर से देने हमें आता हैं।

इस दौरान जिला अध्यक्ष भगतराम हरबंश ने छत्तीसगढ़ शासन के मंत्री जगद गुरू रूद्र गुरू एवं केबिनेट मंत्री  शिव डहरिया को आड़े हाथों लेते हुए मंत्री द्वय को समाज का शोषक बताया और कहा समाज के बदौलत आज रूद्र गुरू और  डहरिया शासन के शीर्ष पदों पर बैठे हुए है पर आज जब समाज में संकट आया तब इन्होंने समाज से ही मुंह मोड़ लिया है इसका बदला समाज आगामी चुनाव में लेकर रहेगी।

 भगतराम हरबंश ने कहा समाज जब सत का मार्ग अपनाकर समाज में सद्भाव व भाई चारा स्थापित कर सकता है तो अपने हक और अधिकार के लिए छत्तीसगढ़ सरकार के खिलाफ उग्र आन्दोलन भी कर सकता है। भूपेश सरकार ये मत भूले कि कालन्तर में हमारे समाज ने छत्तीसगढ़ में ब्रिटिश सरकार के खिलाफ भी लोहा लेते हुए अंग्रेजों को खदेड़ा था तो आज भी अपने समाज के मान, सम्मान और स्वाभिमान के लिए समाज का हर एक व्यक्ति अपना बलिदान भी दे सकता हैं।

आज महामहिम राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपने वालों में प्रमुख रूप से प्रदेश अध्यक्ष उदयचरण बंजारे, जिला भगतराम हरबंश, मनोज बंजारे, डी.डी. कोसले, राजकुमार मेश्राम, सुजीत डहरिया, उत्तम भारती, हरीश कोठारी, अमन, इतवारी, अनिल भारती, अजय देवांगन, महेश गिलहरे, संजू घृतलहरे, डॉ. मनमोहन मनहरे, जामूना रात्रे, पुनीया जोशी, अमरीका कुर्रे, रेवती, चमेली, कुवरी, सरोज, प्रेमीन, उदरानी, दिलेश्वरी, प्रीता, दिलेश्वरी देवी आदि मौजूद रही।