breaking news New

किसान आंदोलन से संजीवनी महसूस करने वाले रालोद के खेमे में बेचैनी

किसान आंदोलन से संजीवनी महसूस करने वाले रालोद के खेमे में बेचैनी

मेरठ । सिंबल एक्सचेंज ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हलचल मचा दी है। सपा के कई नेता रालोद के सिंबल पर चुनाव लड़ेंगे। किसान आंदोलन से संजीवनी महसूस करने वाले रालोद के खेमे में बेचैनी है। रालोद से जुड़े नेताओं और जाट समाज ने रालोद मुखिया जयंत चौधरी को गठबंधन पर पुनर्विचार करने की भी सलाह दे दी है।

पिछले दिनों सपा-रालोद गठबंधन ने 29 सीटों का ऐलान किया था। इसमें से 19 सीटें रालोद को और 10 सीटें सपा के कोटे में गई थीं। रालोद को जो 19 सीटें मिली थीं, उनमें छह लोग वे भी थे, जो विशुद्ध रूप से सपा नेता थे। सिंबल शिफ्टिंग की इस नई परिपाटी ने रालोद के खेमे को हतप्रभ कर दिया है।

समाजवादी पार्टी ने अपने ही नेताओं को रालोद के सिंबल हैंडपंप पर उतार दिया है। सपा ने इससे दो राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश की है- एक जाट समाज का वोट और दूसरा मुस्लिम समीकरण बनाने का प्रयास। सपा के पैंतरे से रालोद के तमाम दावेदार मैदान से बाहर हो गए हैं। रालोद नेता कहते हैं कि इस सियासी दोस्ती में नुकसान रालोद को हुआ है। उसको वांछित सीटें कहां मिली।

मेरठ-मुजफ्फरनगर में सिंबल की सियासत

मेरठ जिले की सात सीटों में से छह सीटों पर अब गठबंधन में सपा के प्रत्याशी चुनाव लड़ेंगे। मेरठ कैंट सीट पर पूर्व विधायक चंद्रवीर सिंह की बेटी मनीषा अहलावत को रालोद का सिंबल मिला है। सिवालखास में सपा के पूर्व विधायक हाजी गुलाम मोहम्मद को रालोद के सिंबल पर प्रत्याशी बनाया गया है।

इस तरह जिले में एक भी रालोद कार्यकर्ता चुनाव मैदान में नहीं उतारा गया है। अन्य पांच सीटों पर सपा नेताओं को ही प्रत्याशी बनाया गया है। इन सभी को रालोद का सिंबल हैंडपंप मिला है। इसी को लेकर विरोध है। मुजफ्फरनगर जिले में छह सीटें हैं। पांच में से चार पर रालोद के सिंबल पर सपा नेता चुनाव लड़ेंगे। रालोद के खाते में केवल बुढ़ाना विधानसभा सीट आई है। चरथावल सीट सपा के खाते में है। अन्य चार सीटों पर सपा नेता रालोद के सिंबल पर चुनाव लड़ेंगे।

इस्तीफा दिया

पूर्व जिलाध्यक्ष, युवा रालोद के राष्ट्रीय महासचिव रहे राहुल देव ने रालोद मुखिया जयंत चौधरी को इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कहा कि पार्टी ने जो निर्णय 2022 के चुनाव के संदर्भ में लिए हैं, उससे वह आहत हैं।

मिलकर लड़ेंगे

रालोद के राष्ट्रीय महासचिव राजेंद्र शर्मा ने कहा, 'गठबंधन मिलकर लड़ेगा चुनाव। दोनों पार्टियों के सर्वोच्च नेताओं ने कुछ सोच कर ही प्रत्याशी तय किये होंगे। ऐसा मेरा मानना है। अब प्रत्याशी तय हुए हैं तो मिलकर चुनाव लड़ाया जाएगा।Ó

मुजफ्फरनगर कुल सीट 6

समाजवादी पार्टी - 01

राष्ट्रीय लोक दल 05 (सभी सपा नेता)

रालोद 01 (रालोद नेता को टिकट)

मेरठ

कुल सीट 07

रालोद 06 ( सभी सपा के नेता)

जयंत के आवास तक पहुंचा विरोध

सिवालखास विधानसभा से गठबंधन प्रत्याशी हाजी गुलाम मोहम्मद को लेकर विरोध मंगलवार शाम रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी के आवास तक पहुंच गया। लोगों ने वहां पहुंचकर गुलाम मोहम्मद के नाम का विरोध किया। पार्टी नेताओं के सामने जमकर नारेबाजी की गई। उधर, सिवालखास के कुछ गांवों ढढरा, चिन्दौड़ी, सिसौला, सोला, जिंजोखर, गुनगेझा, रोहटा, डूंगर, भदौरा, मीरपुर, कलांजरी, बाफर आदि में भी झंडे जलाए। हालांकि रालोद नेताओं का कहना है कि लोगों में आक्रोश है।