breaking news New

नगर निगम के मकानों पर कोई नया टैक्स नही..कमल विहार को लेने का नगर निगम का प्रस्ताव गिरा..एमआईसी की बैठक में कई फैसले..30 करोड़ बढ़ा राजस्व : महापौर एजाज ढेबर

नगर निगम के मकानों पर कोई नया टैक्स नही..कमल विहार को लेने का नगर निगम का प्रस्ताव गिरा..एमआईसी की बैठक में कई फैसले..30 करोड़ बढ़ा राजस्व : महापौर एजाज ढेबर

जनधारा समाचार
रायपुर. नगर निगम रायपुर के राजस्व में आश्चर्यजनक से 30 करोड़ की बढ़़ोतरी हुई है. इसके बाद अब रायपुर के मकानों में फिलहाल कोई टैक्स नही लादा जाएगा. महापौर एजाज ढेबर के नेतृत्व में एमआईसी की हुई बैठक में आज यह फैसला लिया गया.

नगर निगम रायपुर की मेयर इन काउंसिल की बैठक में कमल विहार प्रोजेक्ट नगर निगम को दिए जाने संबंधी पास नही हो सका. अब नगर निगम कमल विहार का अधिग्रहण नहीं करेगा. महापौर एजाज ढेबर की सहमति के बाद अधिकांश सदस्यों ने इसका समर्थन किया और प्रस्ताव पास नही होने दिया.

एमआईसी की बैठक में रायपुर शहर के कुछ चौक चौराहों के नाम बदलने को लेकर भी चर्चा हुई लेकिन कई पर एक रॉय नही बन सकी. इसी तरह कमल विहार को लेने के मामले में भी दस्तावेज की जानकारी या अधिकारियों से सभी पहलुओं पर बैठक या बातचीत के बाद ही इस मामले में कोई फैसला लिया जाएगा.

एमआईसी की बैठक के बाद महापौर एजाज ढेबर ने बताया कि रायपुर नगर निगम अब आम लोगों से यह पूछेगा कि उनके मकान में कितने कमरे हैं, कितने फ्लोर हैं, मकान कच्चा है या पक्का और कितने एरिया में बनाया गया है. इसके लिए लोगों को एक फॉर्म भी दिया जाएगा. इस पूरी प्रक्रिया में अगर किसी तरह की आपत्ति हो तो लोग नगर निगम में शिकायत भी कर सकते हैं। दरअसल ये पूरा मामला राजस्व वसूली से जुड़ा हुआ है। नगर निगम रायपुर शहर के हर मकान से टैक्स वसूलता है और इसी प्रक्रिया में सुधार के लिए अब नए सिरे से पूरी जानकारी जुटाने की कवायद की जा रही है।

यह फैसला बुधवार को हुई मेयर इन काउंसिल की बैठक में लिया गया। बैठक के बाद मीडिया को जानकारी देते हुए महापौर एजाज ढेबर ने कहा कि एक फॉर्म हम लोगों को बांटने जा रहे हैं। ये स्व विवरिणिय फॉर्म होगा, इसका मतलब लोग खुद अपने मकान की जानकारी देंगे। इस फॉर्म को भरकर लोग जोन दफ्तरों में जमा करेंगे, इससे नगर निगम के पास से डिटेल जानकारी होगी। इसमें किसी तरह की आपत्ति हो तो लोग आपत्ति दर्ज करवा सकेंगे।

महापौर एजाज ढेबर ने यह साफ किया कि रायपुर के मकानों से लिया जाने वाला टैक्स किसी तरह से बढ़ाया नहीं जाएगा। पिछले कुछ दिनों में रायपुर नगर निगम के राजस्व में करीब 30 करोड़ रुपए की बढ़ोतरी भी हुई है। एजाज ढेबर ने कहा कि रायपुर राजधानी में तीन लाख आठ हजार मकान हैं, लेकिन सिर्फ 2 लाख 46 हजार मकानों से ही राजस्व की वसूली हो पा रही है।