breaking news New

चुनौतीपूर्ण क्षेत्रों में पुलिस कैम्पो की स्थापना, पुलिस के साहस व जनविश्वास का परिणाम

चुनौतीपूर्ण क्षेत्रों में पुलिस कैम्पो की स्थापना, पुलिस के साहस व जनविश्वास का परिणाम

सुजीत वैदिक, सुकमा। जिले के कई गांव ऐसे थे, जो सिर्फ नाम लेने पर भय की घुंधली सी तश्वीर आँखो की रेटिना मे छा जाती थी। दबी आवाजें जो ग्रामीणो के चिखने व चिल्लाने की जहन मे बनी रहती थी , उन आवाजो मे छिपे कही अपनो के खोने के दर्द ,तो कही अपनो को पाने की याचनाए, हम उनके उन्ही आवाजों मे महसूस किया। बदलाव की चाह, उनके अन्दर छिपी आह को बस जुनून लिए निकल पढे जो हमारे लिए सबल और साहस दिया। 

जन विश्वास थी, उनके जहन मे छिपे बदलाव के सपनो को सकार करने के लिए हम प्रति बध्य हो उठे थे, फिर नक्सलियों की कोर एरिया कहे जाने वाले क्षेत्रों में जिला पुलिस सुकमा व सीएपीएफ के संयुक्त प्रयासों के परिणाम मिनपा, बड़ेसेट्टी, मनकापाल, मुकरम, कोलाईगुड़ा, करीगुंडम सहित कुल 06 पुलिस कैम्पों की स्थापना की गई। इन कैम्पों के द्वारा अनुमानित 750 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्रफल के 23 गांवो को नक्सल मुक्त किया, और नक्सलियों को पीछे धकेल दिया गया।

इन कैम्पों के माध्यम से यह सुनिश्चित किया गया है कि क्षेत्र विशेष की ग्रामीणों को स्वास्थ्य सुविधाएं सुलभ हो जाये। इसके लिए समय-समय पर कैम्प आसपास स्वास्थ्य शिविर लगाकर डॉक्टर की सुविधा भी उपलब्ध कराई जा रही है एवं कैम्पों में स्वास्थ्य सुविधा हेतु डॉक्टरों की पदस्थापना की गई है। ग्रामीणों में सकारात्मक भावना जागृत करने हेतु सहभोज का भी आयोजन किया जा रहा है।

नक्सलियों के आधार इलाका कहे जाने वाले मिनपा, करीगुंडा, कोलाईगुड़ा व मुकरम जिस एरिया में नक्सलियों के बटालियन कार्यरत् है। उस एरिया में ये तीन कैम्प स्थापित करना स्वमेय पुलिस के साहस और जनविश्वास को दर्शित करता है। इससे न केवल मार्ग में आवागमन की दुरूस्त हुआ है वरन् कैम्प की स्थापना से जनता के बीच मुलभूत सुविधाओं को पहुंचाने में शासन को मदद मिली है व दोरनापाल-जगरगुंडा मार्ग, कोंटा-चिंतागुफा मार्ग एवं कैम्प बड़ेसट्टी व मनकापाल क्षेत्र में बनने वाले अंदरूनी मार्गो को गति मिली है व निर्माण कार्य तेजी से सम्पन्न हो रहे है तथा समाज की मुख्यधारा से भटके ग्रामीणो के लिए आत्मसमर्पण वरदान सा है।

भटके हुए ग्रामीणों को शासन की आत्मसमर्पण पुर्नवास निति वरदान ही कहे जो नीति के तहत् आत्मसमर्पण कराकर समाज की मुख्यधारा से जोड़ने का सतत् प्रयास किया जा रहा है। अंदरूनी क्षेत्रों में नक्सलियों के कोर एरिया को संकुचित करने तथा ग्रामीणों को शासन प्रशासन के संपूर्ण योजनाओं का लाभ दिलाने हेतु आगामी दिनों में और नये सुरक्षा कैम्प खोले जायेंगें।