breaking news New

भाजपा आई टी सेल ने सोशल मीडिया (फेसबुक) पर प्रधानमंत्री व केन्द्रीय गृहमंत्री पर शासकीय सेवक के द्वारा की गई अशोभनीय टिप्पणी के विरूद्ध जिलाधीश व पुलिस अधीक्षक बस्तर से की शिकायत

भाजपा आई टी सेल ने सोशल मीडिया (फेसबुक) पर प्रधानमंत्री व केन्द्रीय गृहमंत्री पर शासकीय सेवक के द्वारा की गई अशोभनीय टिप्पणी के विरूद्ध जिलाधीश व पुलिस अधीक्षक बस्तर से की शिकायत


वैक्सीन के खिलाफ दुष्प्रचार करने वाले चिकित्सक पर हो कड़ी कार्रवाई : तेजपाल शर्मा

जगदलपुर, 8 अप्रैल। भाजपा आई टी सेल बस्तर के जिला संयोजक तेजपाल शर्मा(रिंकू)ने शिकायत पत्र के विषय मे बताया कि जिला चिकित्सालय महारानी अस्पताल जगदलपुर में रेडियोलाॅजिस्ट के पद पर पदस्थ डाॅ. मनीष मेश्राम के द्वारा निरंतर अपने अधिकारिक फेसबुक हैंडल से देश के प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेन्द्र मोदी जी एवं केन्द्रीय गृहमंत्री माननीय श्री अमित शाह जी के खिलाफ अपमानजनक एवं भावनाओं को ठेस पहुॅचाने वाले पोस्ट कर रहे हैं। 


वहीं दूसरी तरफ पूरे देशभर में वैक्सीनेशन की गति को किस प्रकार को बढ़ाया जाए इसे लेकर हमारे अग्रिम पंक्ति के अधिकारी-कर्मचारी अपनी जान जोखिम में डालकर दिन-रात एक किए हुये है ताकि किसी भी प्रकार कोरोना महामारी पर काबू पाया जा सके, किन्तु इस प्रकार किसी शासकीय डाॅक्टर के द्वारा स्वयं वैक्सीनेशन को लेकर प्रधानमंत्री श्री मोदी जी की फोटो पोस्ट करके गलत टिप्पणी करना निश्चित तौर पर अशोभनीय होने के साथ ही शासकीय सेवा नियमों के विरूद्ध भी है। जो उनकी ऐसी हरकत अनुशासनहीनता को भी उजागर कर रही है।

अतः आप श्रीमान् महोदय से आग्रह है कि, डाॅ. मनीष मेश्राम, रेडियोलाॅजिस्ट जिला महारानी अस्पताल जगदलपुर के द्वारा देश के प्रधानमंत्री व केन्द्रीय गृहमंत्री को लेकर किये गए आपत्तिजनक पोस्ट को कृपया संज्ञान में लेते हुए तत्काल संबंधित के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही करें। ताकि भविष्य में पुनः इस प्रकार का कृत्य दोहराया न जा सके।

तेजपाल शर्मा ने कहा कि एक चिकित्सक होने के नाते डॉ. मनीष मेश्राम को  लोगों को जागरूक करना चाहिए परन्तु उनके द्वारा इस प्रकार कि भ्रामक जानकारी अपने सोशल मिडिया में शेयर कर लोगों में भ्रम फ़ैलाने का प्रयास किया जा रहा है. हमारे देश के वैज्ञानिक और चिकित्सकों ने अपनी जान कि परवाह न करते हुए दिन-रात परिश्रम करके लोगों की जान बचाने के लिए वैक्सीन तैयार की है जिसका हमें सम्मान करना चाहिए परन्तु एक चिकित्सक द्वारा इस प्रकार का दुष्प्रचार करना अत्यंत ही निंदनीय है. समाज में जागरूकता कि बजाय भ्रम फ़ैलाने वाले ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए.