breaking news New

कोरोना के इलाज के लिए हर मरीज को मिलेगा बिस्तर-शिवराज

कोरोना के इलाज के लिए हर मरीज को मिलेगा बिस्तर-शिवराज

भोपाल।  मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में हर कोविड मरीज को इलाज के लिए आवश्यकता अनुसार सामान्य, ऑक्सीजन एवं आई.सी.यू. बिस्तर उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके लिए हर जिले में निरंतर बिस्तर बढ़ाए गए हैं। सभी जिले यह सुनिश्चित करें, कि हर कोविड मरीज़ को उपचार के लिए अस्पतालों में बिस्तर मिलें।
 मुख्यमंत्री चौहान आज निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोरोना नियंत्रण कोर ग्रुप की बैठक ले रहे थे। संबंधित मंत्री और अधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक में शामिल हुए। श्री चौहान ने कहा कि कोरोना को छुपाएँ नहीं बताएँ। शुरू में ही दवा प्रारंभ होने पर यह बीमारी ठीक हो जाती है, परन्तु विलंब करने पर जानलेवा हो जाती है। किल कोरोना अभियान के अंतर्गत घर-घर सर्वे अभियान चलाया जा रहा है। नगरों में कोविड सहायता केन्द्र बनाए जा रहे हैं। सर्दी-जुकाम, खाँसी आदि के मरीज नि:शुल्क मेडिकल किट प्राप्त करें और तुरंत दवाएँ लें।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड के विरूद्ध अभियान को प्रदेश में जन-आंदोलन बनाया जाए। इसमें समाज के सभी वर्गों को जोड़ा जाए। गाँव-गाँव, शहर-शहर सर्वे कर एक-एक छुपे मरीज की पहचान की जाए तथा उसे दवा देकर स्वस्थ किया जाए।
मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि प्रदेश में विभिन्न श्रेणियों के प्रत्येक गरीब व्यक्ति को 5 माह का नि:शुल्क राशन अनिवार्य रूप से मिल जाए, यह सुनिश्चित किया जाए।
प्रदेश में कोरोना के नए प्रकरणों में निरंतर गिरावट आ रही है। पिछले 24 घंटे में 11 हजार 598 नए प्रकरण आए हैं, 4445 मरीज स्वस्थ हुए हैं। सक्रिय प्रकरणों की संख्या एक लाख 2 हजार 486 है। पिछले तीन हफ्ते से साप्ताहिक नए प्रकरणों में कमी आ रही है। संक्रमण की दृष्टि से प्रदेश देश में 15वें स्थान पर आ गया है। प्रदेश की सात दिन की औसत पॉजिटिविटी रेट 19 प्रतिशत है।
प्रदेश में कुल कोरोना मरीजों में 75 फीसदी होम आइसोलेशन में हैं तथा 25 फीसदी अस्पतालों में है, जिनमें से 14 फीसदी ऑक्सीजन बैड्स पर, 7 फीसदी आई.सी.यू बैड्स पर तथा 4 फीसदी मरीज सामान्य बैड्स पर हैं।
मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना के अंतर्गत वर्तमान में प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती 515 पात्र मरीजों को नि:शुल्क कोविड इलाज का लाभ दिया जा रहा है। इसमें 19 लाख 46 हजार 700 रूपए की राशि आज की तिथि में अस्पतालों को शासन की ओर से दी जाएगी।
प्रदेश में कोविड के इलाज के लिए निजी चिकित्सालयों द्वारा अधिक राशि लिए जाने के कुल 72 प्रकरणों में 15 लाख 97 हजार रूपए की राशि मरीजों के परिजनों को लौटाई गई है और 25 व्यक्तियों के‍विरूद्ध एफ.आई.आर दर्ज की गई।
श्री चौहान ने निर्देश दिये कि रेमडेसिविर की कालाबाजारी करने वाले छूटें नहीं, जेल जाएँ, यह सुनिश्चित किया जाए। प्रदेश में कार्रवाई निरंतर जारी है। आज 3 प्रकरणों में कार्रवाई की गई है। पूर्व में 20 प्रकरणों में रासुका की कार्रवाई की गई है। उन्होंने निर्देश दिए कि बीना में ऑक्सीजन बॉटलिंग प्लांट शीघ्र शुरू किया जाए। वहाँ दो प्लांट 90-90 टन के बन रहे हैं। इनसे 18 हजार सिलेंडर रोज भरे जाएंगे। हर अस्पताल में बिजली संबंधी सुरक्षा पर ध्यान दिया जाए। साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाए कि प्रत्येक अस्पताल में जनरेटर की व्यवस्था हो।
मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि 45 वर्ष से ऊपर वालों तथा 18 वर्ष से अधिक वालों को वैक्सीन की निरंतर उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। वैक्सीन आयात करने की संभावना पर भी विचार किया जाए। बताया गया कि रूस से जून के प्रथम माह से स्पूतनिक वैक्सीन मिल सकेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि वैक्सीन का एक भी डोज़ वेस्ट नहीं होना चाहिए।