breaking news New

Breaking किरंदुल से विशाखापट्टनम जा रही मालगाड़ी के 14 डिब्बे पटरी से उतरे, एक ही लाइन होने के कारण रेल यातायात बाधित, पैसेंजर ट्रेन भी फंसी

Breaking किरंदुल से विशाखापट्टनम जा रही मालगाड़ी के 14 डिब्बे पटरी से उतरे, एक ही लाइन होने के कारण रेल यातायात बाधित, पैसेंजर ट्रेन भी फंसी

दंतेवाड़ा. किरंदुल विशाखापट्टनम रेल लाइन पर सुरंग के भीतर मालगाड़ी पटरी से उतर गई है. यह मालगाड़ी किरंदुल से लौह अयस्क लेकर विशाखापट्टनम जा रही थी. जगदलपुर से 80 किलोमीटर की दूरी पर उड़ीसा के कोरापुट रेलखंड में जरती एवं मल्ली गुड़ा स्टेशनों के बीच यह दुर्घटना हुई.

दुर्घटना में मालगाड़ी के 14 डिब्बे पटरी से उतर गए. सिंगल लाइन होने के कारण जगदलपुर कोरापुट के बीच रेल आवागमन फिलहाल ठप है। पिछले डेढ़ सालों में दूसरी घटना इस सुरंग में हुई है। सुरंग के भीतर मालगाड़ी के पलटने की वजह से सुधार कार्य में भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। किरंदुल से विशाखापटनम जाने वाली यात्री ट्रेन को इस हादसे की वजह से किरंदुल में ही रद्द करना पड़ गया।

विशाखापटनम से किरंदुल जाने वाली यात्री ट्रेन को कोरापुट में रद्द कर वहीं से डाउन ट्रेन बनाकर वापस विशाखापट्टनम भेज दिया गया। रेल लाइन बहाल करने के लिए सुबह से ही कोरापुट और किरंदुल से राहत ट्रेन रवाना हुई है। देर शाम तक दुर्घटनाग्रस्त मालगाड़ी के आगे और पीछे के सही सलामत बचे धब्बों को ट्रेन से अलग कर सुरंग के अंदर फंसे डिब्बों को पटरी पर लाने की कोशिश की जा रही है। सुरंग के अंदर क्रेन और भारी मशीनरी का उपयोग संभव नहीं है। इस वजह से रेल मार्ग को बहाल करने में दिक्कतें पेश आ रही हैं। इस रेल मार्ग पर 48 सुरंगे हैं जिनमें हादसों का खतरा बना रहता है।