breaking news New

चंदनु, बिटकुली , तुमा में खुले बैंक ब्रांच

चंदनु, बिटकुली , तुमा में खुले बैंक ब्रांच

बेमेतरा, 17 नवंबर। जिला बनने के पश्चात आर्थिक गतिविधियों के लिए बहुत सारे बैंक की शाखाएं  जिला मुख्यालय में प्रारंभ हुई किंतु  ब्रांच बेमेतरा में स्थित है। ग्रामीण अंचल आज भी बैंक की शाखाओं से वंचित हैं। आर्थिक गतिविधियों के लिए ग्रामीण अंचल के किसानों को, लोगों को जिला मुख्यालय बेमेतरा आना जाना पड़ता है। वर्तमान कोरोना काल में जब सभी आर्थिक लेनदेन ऑनलाइन और डिजिटल माध्यम से हो रहे हैं। भविष्य में भी digital  को बढ़ावा दिया जाएगा । कैशलैस इकोनामी की ओर भारत बढ़ रहा है ऐसे में ग्रामीण अंचलों में बैंक का अभाव  उसकी आवश्यकता एवं महत्व महसूस कराता है। बेमेतरा जिला मुख्यालय से दूर 25 किलोमीटर तुमा- झिरिया -मऊ क्षेत्र में किसी भी राष्ट्रीय कृत बैंक की शाखा नहीं है। और एटीएम   नांदघाट अथवा बेमेतरा है। ऐसे में आज भी ग्रामीण अंचल के लोगों को पोस्ट ऑफिस ऑर्डर पर निर्भर होना पड़ रहा है।

पैसे रुपए की जरूरत पड़ने पर बाहर से यदि उनके खातों में रकम डाला जाए तो उनको जिला मुख्यालय आना पडता है। अथवा 18 किलोमीटर दूर नांदघाट आना पड़ता है।ऐसे में बहुत परेशानी होती है। गांव में आज भी पोस्ट ऑफिस  मनी ऑर्डर के माध्यम से पैसे का लेन देन हो रहा है, संकटकाल  2020 महामारी के समय में लोग कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं। ऐसे में आर्थिक लेनदेन के लिए बैंक शाखाओं की जरूरत महसूस हो रही है । ग्रामीण अंचलों में जनधन खाते तो खोल दिए गए किंतु यदि पैसा निकालना हो तो  बेमेतरा जाना पड़ता है ।सरकार यदि मऊ झिरिया  बिटकुली  चदनु आस-पास के गांव में  राष्ट्रीय कृत बैंक की शाखाओं का शुभारंभ  करती तो इस अंचल के नागरिकों के लिए बड़ी सेवा होगी। आम जन बैंक शाखाओं की जरूरत महसूस कर रहे हैं। कुछ लोगों का तो गुस्सा जाहिर करते हुए कहना है कि सरकार की सारी सुविधाएं केवल शहरों में है, ग्रामीण अंचल  वंचित रखा जाता है इससे उनकी आर्थिक गतिविधियां बाधित होती हैं । अधिकांश किसान परेशान होते हैं उन्हें दूर मुख्यालय जाने में परेशानी होती है और पैसे भी खर्च होते हैं। आने जाने के लिए कठिन समय में साधनों का अभाव भी रहता है। अतः सरकार को कुछ ऐसी सुविधा प्रदान करनी चाहिए कि ऑनडिमांड उनको पैसा रुपया प्राप्त हो सके।