breaking news New

Joe Biden पर भारत की मदद का बढ़ रहा दबाव,

Joe Biden पर भारत की मदद का बढ़ रहा दबाव,


बिडेन प्रशासन ने विभिन्न क्वार्टरों से दबाव में आ गया है, जिसमें अमेरिका के शक्तिशाली चैंबर्स ऑफ कॉमर्स, कानूनविदों और प्रख्यात भारतीय-अमेरिकियों को शामिल किया गया है, जो भारत को कई जीवनरक्षक चिकित्सा आपूर्ति के साथ एस्ट्राज़ेनेका और अन्य कोविड-19 टीकों को शिप करने के लिए देख रहा है।

कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप को ध्यान में रखते हुए यूएस चैंबर ऑफ कॉमर्स ने राष्ट्रपति जो बाइडेन से अपील करते हुए कहा है कि स्टोर करके रखी गईं AstraZeneca की लाखों खुराक के साथ ही अन्य जीवन रक्षक दवाएं भारत, ब्राजील जैसे देशों को भेजी जानी चाहिए, जहां कोरोना फिर से कहर बरपा रहा है. बता दें कि इससे पहले अमेरिका ने भारत की मदद से इनकार कर दिया था. अमेरिका की तरफ से कहा गया था कि वो भारत की चिंता से वाकिफ है, लेकिन फिलहाल उसके हाथ बंधे हुए हैं। 

अमेरिकी कांग्रेस लीडर रशीदा तालिब ने भी भारत की स्थिति पर चिंता जताते हुए राष्ट्रपति बाइडेन से नई दिल्ली की मदद करने की अपील की है. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है कि भारत में कोरोना की बिगड़ती स्थिति दर्शाती है कि महामारी अभी खत्म नहीं हुई है. इस मुश्किल वक्त में हमें सभी जरूरतमंद देशों की मदद को आगे आना चाहिए. उधर, जो बाइडेन के इलेक्शन कैंपेन के लिए फंड जुटाने वाले शंकर नरसिम्हन  (Shekar Narasimhan) ने अमेरिकी राष्ट्रपति से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) से बात करने का आग्रह किया है. उन्होंने कहा कि भारत मुश्किल दौर से गुजर रहा है. हर रोज वहां से लोगों के मरने की खबर आ रही है. मैं अमेरिकी राष्ट्रपति से अपील करता हूं कि वे पीएम मोदी से बात करें और यदि संभव हो तो वैक्सीन की 10 मिलियन खुराक भारत को प्रदान कराएं.