breaking news New

रंगमंच अभिनेत्री गीताजंलि सर्वाधिक 'थियेटर वेबिनार' संचालित करने वाली देश की पहली महिला रंगकर्मी, एशिया बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में हुआ नाम दर्ज

रंगमंच अभिनेत्री गीताजंलि सर्वाधिक 'थियेटर वेबिनार' संचालित करने वाली देश की पहली महिला रंगकर्मी, एशिया बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में हुआ नाम दर्ज
रायपुर 12 अप्रैल।  अभिनेत्री गीताजंलि रंगमंच के लिए सर्वाधिक 'थियेटर वेबिनार' संचालित करने वाली देश की पहली महिला रंगकर्मी बन गई हैं। उनका नाम एशिया बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज किया गया है। 

एशिया रिकॉर्ड ने उनकी इस उपलब्धि पर प्रशस्ति पत्र जारी किया है। उन्होंने लगातार 402 वेबिनार आयोजित करने का रिकॉर्ड बनाया है। वे ऐसी कलाकार हैं जो 25 नाटकों में अभिनय कर चुकी हैं। 15 साल से रंगमंच पर सक्रिय हैं।
ग्वालियर,मध्यप्रदेश की गीताजंलि गीत ने बीते वर्ष लॉक डाउन में रंगमंच पर मेरा मंच के ज़रिये वेबिनार की शुरुआत की थी। वह एक मुश्किल वक़्त था और लोग वेबिनार तकनीक से अनजान थे। रंगमंच से जुड़े लोगों का भी यह पहला अनुभव था। इसके बावजूद गीतांजलि ने फेसबुक और गूगल मीट एप्स के ज़रिए वेबिनार को आगे बढ़ाया। लोगों को तकनीक की जानकारी दी।


 रंगमंच कला के सम्वाद को आगे बढ़ाने का काम जारी रखा। उन्होंने कुल 402 वेबिनार आयोजित किये जिसमें देश भर के कई रंगमंच कलाकार और निर्देशकों ने हिस्सा लेकर विभिन्न विषयों पर अपने विचार रखे। ऐसा पहली बार हुआ जब देश के हर कोने के कलाकार इस वेबिनार में आये। कई बड़ी संस्थाओं ने बाद में यह काम किया। मगर तब तक गीताजंलि इस काम में बहुत आगे निकल चुकी थी। 

गीतांजलि ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा, यह उपलब्धि उनकी अकेली नहीं बल्कि उनका साथ देने वाले परिवार और सहयोगी मित्रों की है। उनके पति रोहित गिरवाल सेल टैक्स डिपार्टमेंट में अस्सिटेंट कमिश्नर हैं। वे भिंड में पदस्थ हैं। परंतु लॉक डाऊन के दिनों में जब भी वे ग्वालियर में घर पर रहे। पत्नी गीतांजलि की भरपूर मदद की, वे घर में कम से कम एक वक्त किचन का काम संभालते। 

पत्नी को उससे काम में भरपूर सहयोग करते। वहीं गीतांजलि के तीनों बच्चे जाहन्वी,अनेरी और कृष्ण मां का भरपूर साथ देते। बारहवीं क्लास में पढ़ रही जाहन्वी वेबिनार में गेस्ट को लाइनअप करने में मदद करती, दस्वीं क्लास की अनेरी पोस्टर बनाती और 12 साल का बेटा कृष्ण दोनों बहनों की मदद करता। गीतांजलि ने कहा कि बहुत बार निराश होने के पल भी आये लेकिन परिवार के साथ आप जैसे सहयोगी मित्र हौसला बढ़ाते रहे। उन्होंने कहा कि आगे भी वे अपने अभियान को जारी रखेंगी। 

गीतांजलि ने हाल ही में एक थियेटर वर्कशॉप का भी आयोजन किया है। इसमे करीब 40 युवाओं ने भाग लिया। वे खुद भी एक नया नाटक मंचित करने वाली थीं। इस्मत चुगतई की कहानी पर आधारित यह नाटक फिलहाल कोरोना की दूसरी लहर की वजह से मंच तक पहुंचने से रूक गया है। गीताजंलि पिछले 15 साल से रंगमंच पर सक्रिय हैं। वे 25 के करीब नाटकों में अभिनय कर चुकी हैं। 5 नाटकों का उन्होंने निर्देशन किया है। एक अभिनेत्री के बतौर उन्होंने दिल्ली में संगीत कला अकादमी से ट्रेनिंग ली है। राजा मान सिंह तोमर युनिवर्सिटी से उन्होंने नाट्य विभाग में एमए किया है। वे असिस्टेंट प्रोफेसर के पद के लिये योग्यता हासिल कर चुकी हैं। फिलहाल वे रंगमंच से जुड़े किसी विषय में पीएचडी करने का इरादा रखती हैं। 

( वरिष्ठ लेखक,पत्रकार शकील अख़्तर कला वेबसाइट इंदौर स्टूडियो डॉट कॉम के संस्थापक सम्पादक हैं।)