breaking news New

मध्यप्रदेश में चोरी के शक में आदिवासी को पिकअप से बांधकर घसीटा, इलाज के दौरान मौत

मध्यप्रदेश में चोरी के शक में आदिवासी को पिकअप से बांधकर घसीटा, इलाज के दौरान मौत

नीमच। मध्य प्रदेश के नीमच जिले के सिंगोली थाना क्षेत्र में एक घटना ऐसी भी सामने आई जिसमें जुल्मों सितम की सारी हदें पार कर दी गईं. एक भील आदिवासी को चोर होने के शक में कुछ लोगों ने बुरी तरह पीटा और फिर एक पिक अप वाहन के पीछे रस्सी से पैर बांधकर कुछ दूर तक घसीट दिया. इतनी प्रताड़ना के बाद भी जब मन नहीं भरा तो घायल आदिवासी व्यक्ति को पैरों से मारना शुरू कर दिया.

आदिवासी व्यक्ति के साथ मारपीट करने के बाद आरोपियों ने पुलिस को डायल 100 पर सूचना दी कि उन्होंने चोर को पकड़ा है. मौके पर सिंगोली पुलिस पहुंची और घायल को नीमच जिला अस्पताल रेफर किया गया जहां उसकी मौत हो गई.

इस मामले में आरोपियों ने अपनी बर्बरता का वीडियो भी खुद ही बनाया और वायरल कर दिया. पुलिस ने इस पूरे मामले में बारीकी से जांच की तो पाया कि जिन लोगों ने वीडियो बनाया उन्हीं लोगों ने उक्त आदिवासी व्यक्ति के साथ बुरी तरह मारपीट करके लोडिंग वाहन के पीछे बांधकर घसीटा भी था.

8 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज
वायरल वीडियो के सामने आते ही पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया और नीमच एसपी सूरज वर्मा ने ताबड़तोड़ कार्रवाई करते हुए इस पूरे मामले में 8 लोगों के खिलाफ हत्या तथा एट्रोसिटी एक्ट का मामला दर्ज करने के आदेश दे दिए. जिसके बाद मुख्य आरोपी के रूप में महेंद्र पिता रामचंद्र गुर्जर निवासी जेतलिया, थाना सिंगोली को गिरफ्तार किया. मामले में मुख्य आरोपी महेंद्र गुर्जर की पत्नी बाणदा से सरपंच हैं.

मध्य प्रदेश कांग्रेस ने घटना की आलोचना करते हुए ट्वीट कर कहा कि नीमच के आदिवासी युवक को पीटा और ट्रक से बांधकर घसीटा, मौत हुई. इस वीभत्स हत्या के ज़िम्मेदार वो सब लोग हैं जो लिंचिंग को सही बताने के लिए कुतर्क देते हैं. तालीबान की ओर बढ़ते कदम.

मिली जानकारी के अनुसार 45 वर्षीय मृतक कान्हा उर्फ कन्हैया भील बाणदा का रहने वाला था, जिसे चोर समझकर वहां से गुजर रहे कुछ लोगों ने पकड़ लिया और मारपीट करने लगे. इसके बाद कुछ लोग और वहां आ गए जिन्होंने मृतक कन्हैया के साथ मारपीट की तथा उससे सच उगलवाने के लिए एक लोडिंग वाहन के पीछे बांधकर घसीट भी दिया.

मुख्य आरोपी सरपंच का पति
मरने से पहले वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि कन्हैया भील उसके साथ मारपीट करने वालों के हाथ पैर जोड़ रहा था और कह रहा था कि उसने कुछ नहीं किया है, लेकिन कन्हैया भील के साथ मारपीट करने वालों के सिर पर मानो खून सवार था और एक के बाद एक जिसे मौका मिला उसने उसके साथ पूरी बर्बरता की. बाद में जब पुलिस घायल कन्हैया भील को नीमच जिला अस्पताल लेकर पहुंची तो उसने दम तोड़ दिया.

एडिशनल एसपी नीमच सुंदर सिंह कनेश ने घटना पर बताया कि थाना सिंगोली क्षेत्र में घटना घटित हुई थी जिसमें डायल 100 को सूचना मिली थी कि एक चोर को पकड़ा गया है. जो घायल है उसे अस्पताल ले जाना है. इस इवेंट पर थाने से तत्काल सिंगोली पुलिस मौके पर पहुंची और घायल शख्स को नीमच अस्पताल रेफर किया गया जहां उसकी मृत्यु हो गई.

उन्होंने बताया कि बाद में पता चला और एक वीडियो भी वायरल हुआ था जिससे जानकारी मिली कि जो घायल कन्हैया लाल भील था उसे पिकअप वाहन के पीछे बांधकर घसीटा गया था और मारपीट की गई थी. इसी पर हत्या का प्रकरण दर्ज किया गया. साथ ही कई धाराएं भी लगाई गई हैं.

उनका कहना है कि विवेचना के दौरान 8 आरोपियों को चिन्हित किया गया है जिसमें से चार को राउंडअप कर लिया गया है, साथ ही घटना में प्रयुक्त की गई पिकअप को भी जब्त  किया गया है. इसमें एक सरपंच पति महेंद्र गुर्जर भी हैं जिन्हें भी गिरफ्तार किया गया है. शेष आरोपियों की तलाश जारी है. बहुत जल्द आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा. इस मामले में 302 तथा 325 एट्रोसिटी एक्ट और अन्य मारपीट की धाराओं में प्रकरण पंजीबद्ध किया गया है.