breaking news New

BREAKING : राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह में शिक्षकों को हुआ सम्मान

BREAKING : राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह में शिक्षकों को हुआ सम्मान


रायपुर।  छत्तीसगढ़ में शिक्षक दिवस के अवसर पर राजभवन में आयोजित राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह में शिक्षकों को सम्मानित किया गया।

राज्यपाल अनुसुईया उइके ने इस मौके पर पूर्व राष्ट्रपति और महान शिक्षक डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन को नमन करते हुए कहा कि शिक्षक दीपक की तरह होते हैं, जो अज्ञान के अंधकार में ज्ञान का प्रकाश लाते हैं। उनका देश और प्रदेश की प्रगति में महत्वपूर्ण योगदान रहता है। शिक्षकों के मार्गदर्शन से विद्यार्थी अलग-अलग क्षेत्रों में सफलताएं अर्जित कर राष्ट्र निर्माण में भागीदार बनते हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षक जो मार्गदर्शन देते हैं उसे सकारात्मक रूप से ग्रहण करने पर अवश्य सफलता मिलती है।

उन्होने कहा कि बच्चे हमारे देश का भविष्य हैं, उनकी मौलिकता, कल्पनाशीलता, देश के लिए अनमोल संपदा है और उनके जीवन को गढ़ने का महत्वपूर्ण दायित्व शिक्षकों पर है। शिक्षकों को विद्यार्थियों से मित्र एवं मार्गदर्शक की तरह व्यवहार करना चाहिए। स्वामी विवेकानंद ने कहा कि ‘हमें ऐसी शिक्षा चाहिए, जिससे चरित्र का निर्माण हो, मन की शांति बढ़े, बुद्धि का विकास हो और मनुष्य, अपने पैरों पर खड़ा हो सके।’

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि चाहे खेल के क्षेत्र में या शिक्षा के क्षेत्र में हमेशा गुरूओं की आवश्यकता पड़ती है। शिक्षकों का राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान होता है। कोरोना महामारी के समय इसकी महत्ता और भी बढ़ गई। शिक्षा विभाग ने कोरोना महामारी के समय ऑनलाइन शिक्षा पद्धति प्रणाली बुलटू के बोल, मोहल्ला क्लास जैसे माध्यमों से शिक्षा प्रदान की, जिसकी पूरे देश और विदेश में चर्चा हुई।

श्री बघेल ने उत्कृष्ट शिक्षा प्रदान करने के लिए स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी विद्यालय की स्थापना का उल्लेख करते हुए कहा कि इसमें गरीब और मध्यमवर्ग के पालकगण अपने बच्चों को निःशुल्क शिक्षा दिला रहे है। यह गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। किसी भी विद्यार्थी का आदर्श उसका शिक्षक होता है। वे जिस प्रकार का आचार-व्यवहार करते है विद्यार्थी उनका अनुसरण करते है। इसलिए अच्छे विद्यार्थी बनाने के लिए श्रेष्ठ शिक्षकों की आवश्यकता होती है।


कार्यक्रम में वर्ष 2020 में चयनित 58 शिक्षकों को सम्मानित किया गया, जिसमें 54 शिक्षकों को राज्य शिक्षक सम्मान और 04 शिक्षकों को प्रदेश के महान साहित्यकारों के नाम पर स्मृति पुरस्कार दिया गया। इस अवसर पर वर्ष 2021 के लिए राज्य स्तरीय पुरस्कार के लिए चयनित शिक्षकों के नामों की घोषणा की गई।