breaking news New

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के प्रमुख कार्यक्रम को पीएम मोदी करेंगे संबोधित, जानें कैसा रहेगा कार्यक्रम

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के प्रमुख कार्यक्रम को पीएम मोदी करेंगे संबोधित, जानें कैसा रहेगा कार्यक्रम

नई दिल्ली, 20 जून। सातवें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर 21 जून को प्रमुख कार्यक्रम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संबोधित करेंगे। कोरोना महामारी के मद्देनजर प्रमुख आयोजन एक टेलीविजन कार्यक्रम होगा जो दूरदर्शन के सभी चैनलों पर सुबह 6.30 बजे शुरू होगा। कार्यक्रम में आयुष राज्यमंत्री किरण रिजिजू का संबोधन और मोरारजी देसाई नेशनल इंस्टीट्यूट आफ योग द्वारा योग का सजीव प्रदर्शन भी शामिल होगा।

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की नोडल एजेंसी आयुष मंत्रालय द्वारा जारी बयान के मुताबिक इस साल मुख्य थीम 'स्वास्थ्य के लिए योग' (योग फार वेलनेस) है। इस अवसर के लिए विदेश में भारतीय मिशन संबंधित देशों के साथ विभिन्न गतिविधियों में समन्वय कर रहे हैं।

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस दुनिया के करीब 190 देशों में मनाया जाएगा। लाखों योग प्रेमियों ने अपने घरों से इस आयोजन का हिस्सा बनने के लिए प्रतिबद्धता व्यक्त की है। योग प्रदर्शन के बाद सुबह सात बजे से 7.45 बजे तक प्रधानमंत्री मोदी का संबोधन होगा।

बाद में 15 आध्यात्मिक व योग गुरु अपने-अपने संदेश भी देंगे। इनमें श्रीश्री रविशंकर, सद्गुरु जग्गी वासुदेव, डा. एचआर नगेंद्र, कमलेश पटेल, डा. वीरेंद्र हेगड़े, डा. हमसाजी जयदेव, ओपी तिवारी, स्वामी चिदानंद सरस्वती, डा. चिन्मय पांडेय, मुनि श्री सागर महाराज, स्वामी भारत भूषण, डा. विश्वास मंडालिक, सिस्टर बीके शिवानी, एस. श्रीधरन और ए. रोजी शामिल हैं।

इस मौके पर भारतीय डाक विभाग एक स्पेशल कैंसिलेशन स्टैंप जारी करेगा। इसका इस्तेमाल 21 जून को बुक होने वाली सभी डाक पर किया जाएगा। बता दें कि कैंसिलेशन स्टैंप का इस्तेमाल डाक टिकटों को रद करने के लिए किया जाता है ताकि उनका फिर से इस्तेमाल न किया सके।

उल्‍लेखनीय है कि पीएम मोदी ने 27 सितंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में इस दिन को सेलिब्रेट करने की पहल की थी जिसके बाद 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day 2021) घोषित किया गया। 21 जून को संयुक्त राष्ट्र में 177 सदस्यों द्वारा अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को मनाने का प्रस्ताव रखा गया था जिसे 90 दिनों के अंदर पूर्ण बहुमत से पारित किया गया जो संयुक्त राष्ट्र संघ में किसी दिवस प्रस्ताव के लिए सबसे कम समय है।