breaking news New

सत्ता शासन के अंहकार में जनप्रतिनिधि, किसी दूसरे अधिकारी को लगा दी फटकार

सत्ता शासन के अंहकार में जनप्रतिनिधि, किसी दूसरे अधिकारी को लगा दी फटकार

मगरलोड, 4 नवंबर। आम लोगों और अपने कार्यकर्ताओं की समस्याओं से रूबरू होने के लिए दिन मंगलवार को सूबे के मुखिया भूपेश सरकार की एक तेजतर्रार जनप्रतिनिधि ब्लॉक मुख्यालय के रेस्ट हाऊस में एक मीटिंग आयोजित किया गया था।उसी दौरान एक किसान धान से लगे खेत के विषय में अपना समस्याओं का गाथा सुना रहा था। जबकी पूरा मामला वहां राजस्व विभाग था।लेकिन सत्ता शासन की ध्वास दिखाते हुए किसी दूसरे विभाग के कर्मचारी, अधिकारी के जगह पर किसी दूसरे विभाग एक जिम्मेदार प्रभारी को बिना कुछ सोचे समझे पूरे कार्यकर्ताओं एवं आम लोगों के बीच खुलेआम बिफरते हुए कहा की आप अपना काम ठीक से करो नहीं तो फिसल जाओगे क्यों की अभी हमारी सत्ता शासन है,आगे उस जनप्रतिनिधि ने उस अधिकारी के शिकायत उनके उच्च अधिकारियों से करने की बात कही।लेकिन बड़ी विषय यह है आखिर उस राजनीति में पीएचडी करने वाली उस जनप्रतिनिधि को आखिर कौन बतायेगा की, वह मामला उस विभाग की नही है,बल्कि वह मामला राजस्व विभाग की  है।

लोगों के मन में ये बड़ा सवाल बना हुआ है, लेकिन इस सरकार की नौकर शाह में जिंदगी जीने वाले अधिकारी भी चुप नहीं रहे वहां भी अपना सीमा में रहकर उनके सब सवालो का जवाब देता रहा।आखिर उनका जवाब देना भी जायज था।लेकिन सत्ता के सामने आखिर किसकी चलती है। सत्ताधारी तो आखिर सत्ताधारी जनप्रतिनिधि है ना आखिर नौकर शाह की जिंदगी में आखिर उस विभाग की अधिकारी को उस जनप्रतिनिधि की फटकार खाने के बाद उस किसान के खेत मे जाना पड़ा और राजस्व विभाग के  जिम्मेदार कर्मचारी एवं अधिकारी नदारत रहे उसके लिए उस सत्ता शासन के अहंकार में मदमस्त जनप्रतिनिधि का ध्यान तक नहीं गया। उपस्थित लोग अपने बंद जुबान से कहने लगा जिस राजस्व विभाग के अधिकारियों को फटकार लगाना था,पर ऐसा नहीं हुआ क्योंकि हमेशा किसानों को  खून पसीना एक कर मेहनत करने के बाद भी अधिकारी कर्मचारी किसानों की काम को करने लिए बार-बार घुमाती हैं।