breaking news New

प्रशासन के नियमों के आगे बेबस हुआ परिवार

प्रशासन के नियमों के आगे बेबस हुआ परिवार


भानुप्रतापपुर _प्रशासन के नियमों के आगे बेबस हुआ परिवार 2 महीनों की कोरेना महामारी से पीड़ित जो अस्पताल से जंग जीत कर लौटा तो प्रशासन के नियम के आगे हार गया

गरीब परिवार के लिए खड़ी हुई रोजी-रोटी की समस्या भानूप्रतापपुर नगर पंचायत के मुख्य चौक मैं टायर पंचर की दुकान लगाकर अपना परिवार पाल रहा एक परिवार जिसे हटाकर प्रशासन द्वारा कांकेर रोड पर व्यवस्थापन कराया गया। जहां सूत्रों से पता चला यह न्यायालय विभाग का क्वार्टर बन रहा है हटाए गए दुकानदार की कोई सुध लेने को तैयार नहीं।


भानूप्रतापपुर नगर पंचायत द्वारा अंतागढ़ मार्ग पर कई वर्षों से दुकान संचालित कर अपने परिवार का पालन पोषण कर रहा है एक परिवार के सामने खड़ी हुई रोजी-रोटी की समस्या वार्ड क्रमांक 12 के रहने वाले एस सोमनाथन द्वारा कई वर्षों से उस स्थान पर अपने टायर दुकान चला रहा था अतिक्रमण कार्यवाही के चलते उसे हटाया गया उसके बाद कलेक्टर व संयुक्त कलेक्टर के आदेश द्वारा अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को व्यवस्थापन के लिए आदेश किया गया किया गया .


उसके बाद 2 महीनों से कोरैना से पीड़ित व्यक्ति जो रायपुर के अस्पताल में अपने इलाज के दौरान अपनी जमा पूंजी गंवा चुका जिसे लॉकडाउन खुलने के बाद जब दुकान खोल ने पहुंचा कुछ दिनों के बाद नगर पंचायत सहित कई अधिकारी उस गरीब परिवार के दुकान हटाने पहुंच गए ।


जहां एस सोमनाथन द्वारा अपनी दुकान को लेकर सरकारी के दफ्तरों के चक्कर लगा रहा । पीड़ित परिवार पूर्व अध्यक्ष निखिल सिंह राठौर पार्षद, मनीष साहू , चर्चा करते हुए बताया कि मेरे सामने परिवार चलाने की समस्या खड़ी हो गई है अब बताया जाता है कि एक शासकीय क्वार्टर के बाउंड्री वॉल से दूर रखें इस गरीब परिवार को उस स्थान से हटाया गया जोकि शासकीय क्वार्टर से बहुत दूर पर ठेला लगाकर अपनी जीविका चला रहा था। जिस पर पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष निखिल सिंह राठौर ने बताया कि अगर प्रशासन द्वारा इन्हें हटाया गया है पुनः इनका व्यवस्थापन कराया जाना चाहिए। पार्षद मनीष साहू ने बताया नायाब तहसीलदार देवांगन मैडम से चर्चा किया गया था । पीड़ित परिवार के प्रति पर उन्होंने बताया हम कुछ नहीं कर सकते वस्थापन कराना प्रशासन का काम नहीं।