breaking news New

शिक्षा ही बदल सकती है उत्तर प्रदेश की तकदीर

शिक्षा ही बदल सकती है उत्तर प्रदेश की तकदीर

प्रयागराज।  दिल्ली के शिक्षामंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि उत्तर प्रदेश की शिक्षा ही उसकी तकदीर को बदल सकती है।

श्री सिसोदिया गुरूवार को यहां सर्किट हाउस में संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में शिक्षा की हालत बद से बदत्तर है। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार प्राइमरी, माध्यमिक और उच्च शिक्षा की आर ध्यान नहीं दे रही है। प्राइमरी स्कूलों की स्थिति को बयान करने लायक नहीं है।

उन्होंने कहा कि आप के वोट की ताकत से आपके बच्चों को बेहतरीन शिक्षा दिलवा सकती है। उन्होंने कहा कि दिल्ली की शिक्षा 2015 तक जो बिल्कुल लडखडाई थी, केवल पांच सालों में उसमें क्रांतिकारी परिवर्तन लाया गया है। उन्होंने लोगों से अपील किया कि शिक्षा की राजनीति पर वोट कीजिए जिससे आप के बच्चों का भविष्य बेहतर बन सके।

श्री सािसोदिया ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शिक्षा का बजट घटाकर 13 फीसदी कर दिया जबकि प्रदेश में आप की सरकार बनने पर पहले साल से राज्य में कम से 25 फीसदी शिक्षा पर खर्च किया जाएगा। उन्होंने कहा कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी(आप) की सरकार ने गरीब बच्चों को शिक्षा ग्रहण करने के लिए 10 लाख रूपए की गारण्टी ली है। विधानसभा चुनाव के बाद यहां उनकी पार्टी की सरकार बनने पर दिल्ली की तर्ज पर उत्तर प्रदेश में भी बच्चों को शिक्ष प्राप्त करने के लिए सरकार गारण्टी लेगी। यदि किसी कारण वह लोन चुकता नहीं कर पाते तो सरकार चुकाएगी।

उन्होंने कहा कि सरकार में इच्छाशक्ति का अभाव है और इसी कारण यहां शिक्षा का स्तर में गिरता जा रहा है। दिल्ली में प्राइमरी स्कूलों की स्थिति निजी कान्वेंट से बेहतर हैं। वहां की शिक्षा व्यवस्था को देखने के लिए विदेश से लोग आते हैं। आज प्राइवेट स्कूलों की तुलना में सरकारी विद्यालयों के बेहतर परीक्षा परिणाम मिल रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि प्रदेश में सरकार बनने पर उत्तर प्रदेश के सरकारी स्कूलों को प्राइवेट स्कूलों से बेहतर बनाया जाएगा।

श्री सिसोदिया ने कहा कि पहले दिल्ली के सरकारी विद्यालयों में 40 फीसदी बच्चे पढ़ते थे और निजी स्कूलों में 60 प्रतिशत लेकिन अब सरकारी विद्यालयों में 60 प्रतिशत और निजी विद्यालयों में 40 प्रतिशत ही हिस्सा ले रहे हैं। अब निजी स्कूलों की तुलना में सरकारी विद्यालयों के परिणाम बेहतर है। सरकारी स्कूलों में मूलभूत छांचा पहले से बेहतर किया गया है। उन्होने कहा कि दिल्ली के सरकारी स्कूलों में पढ़ाने वाले शिक्षकों के बेहतर प्रशिक्षण के लिए जर्मनी, हालैंड जापान आदि देशों में भेजा है, सरकार बनने पर प्रदेश के शिक्षकों को भी बेहतर प्रशिक्षण के लिए विदेशा भेजा जाएगा।

श्री सासोदिया ने कानून व्यवस्था को लेकर प्रदेश सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि यहां कब किसी हत्या हो जाए कोई नहीं जानता। उत्तर प्रदेश की पुलिस बेलगाम हो गयी है। गोरखपुर में कानपुर के प्रापर्टी डीलर की कथित मौत पर कहा कि यह राजनीतिक हत्या है। प्रदेश में कैसे कोई व्यापारी व्यापार को बढ़ावा देने की बात सोचेगा। उन्होंने मृतक के आश्रितों को उततर प्रदेश सरकार को पांच करोड़ रूपए देने चाहिए।