breaking news New

स्टेट वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन बनाएगा 98 करोड़ की लागत से 21 नए गोदाम

 स्टेट वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन बनाएगा 98 करोड़ की लागत से 21 नए गोदाम


समयसीमा के भीतर बेहतर क्वालिटी से पूरा कराएं निर्माण - वोरा ने दिए सख्त निर्देश  
 निर्माणाधीन गोदामों का आकस्मिक निरीक्षण करेंगे, गुणवत्ता ठीक न होने पर जिम्मेदारों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी  

दुर्ग। स्टेट वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन के चेयरमेन अरुण वोरा ने कार्पोरेशन के अफसरों की बैठक लेकर प्रस्तावित गोदाम निर्माण की टेंडर प्रक्रिया पूरी कर निर्माण कार्य तेजी से शुरू करने के निर्देश दिए हैं। वोरा ने बताया कि कार्पोरेशन के अंतर्गत कुल 1 लाख 64 हजार 400 मीट्रिक टन क्षमता के 21 नए गोदामों का निर्माण करने टेंडर प्रक्रिया चल रही है। इनके निर्माण में लगभग 98 करोड़ रुपए खर्च होंगे। वोरा ने बताया कि कई स्थानों पर कार्पोरेशन के गोदामों का निर्माण नहीं हो पाया है। अनाज का सुरक्षित भंडारण करने कार्पोरेशन को किराये के गोदाम लेना पड़ता है।  नए गोदामों का निर्माण होने पर स्टेट वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन की स्टोरेज केपेसिटी में इजाफा होगा। इससे अन्नदाताओं द्वारा पैदा किए गए अनाज का सुरक्षित भंडारण किया जा सकेगा।  वोरा ने कहा कि छत्तीसगढ़ कृषि प्रधान राज्य है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के कुशल नेतृत्व में छत्तीसगढ़ सरकार ने कृषि उपज की पैदावार बढ़ाने और इनके सुरक्षित भंडारण को बढ़ावा देने पर जोर दिया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप छत्तीसगढ़ स्टेट वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन द्वारा गोदामों में अनाज के भंडारण की व्यवस्था बढ़ाने पर फोकस किया जा रहा है। अफसरों को आवश्यकता के अनुसार गोदामों का निर्माण करने के निर्देश दिए गए हैं। वोरा ने अफसरों से कहा कि बेहतर तरीके से अनाज का सुरक्षित भंडारण करने नए गोदामों का निर्माण तत्काल शुरू किया जाए। गोदाम निर्माण की गुणवत्ता बेहतर बनाने सख्त निर्देश देते हुए वोरा ने कहा है कि वे खुद समय-समय पर निर्माण कार्य की आकस्मिक जांच करेंगे। किसी भी तरह की शिकायत होने पर जिम्मेदारों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।        
यहां गोदाम निर्माण करने टेंडर और वर्क ऑर्डर जारी करने की प्रक्रिया
अफसरों ने बताया कि प्रदेश में इस समय जशपुर में 9 हजार मीट्रिक टन, बोडासागर में 10 हजार मीट्रिक टन, तिल्दा में 15 हजार टन, धरसीवां में 10800 मीट्रिक टन, आरंग में 10800 मीट्रिक टन, खरोरा में 7200 मीट्रिक टन, अभनपुर में 7200 टन, बिलासपुर में 18000 टन, तखतपुर में 7200 टन, करगीरोड में 7200 टन, अकलतरा में 3600 टन, बाराद्वार में 15000 टन, सक्ती में 7200 टन, डभरा में 9 हजार टन, चंद्रपुर में 7200 टन, सारंगढ़ में 2800 टन, सीतापुर में 1000 टन, सक्ती में 3600 टन, सूरजपुर में 7200 टन, मोहला में 1800 टन, मानपुर में 3600 टन क्षमता के गोदामों का निर्माण किया जाएगा।