breaking news New

बलौदा ब्लाक के शिक्षा विभाग में जमे हुए हैं अनेक मुन्ना भाई

बलौदा ब्लाक के शिक्षा विभाग में जमे हुए हैं अनेक मुन्ना भाई

शिकायत पर नहीं होते कार्यवाही आखिर क्या है राज

चांपा, 17 फरवरी। जिले में एक नहीं अनेक मुन्ना भाई बनकर फर्जी दस्तावेज प्रस्तुत करके गुरुजी बनकर छोटे-छोटे मासूम बच्चों को सही और गलत का पाठ पढ़ा रहे हैं जबकि यह गुरुजी व शिक्षाकर्मी बलौदा ब्लाक के अंतर्गत कई ऐसे पदस्थ हैं जो फर्जी दस्तावेज तथा कुट रचना के साथ गुरु जी का कुर्सी और पद हथिया कर नौकरी करने में लगे हुए हैं।  वही बलौदा ब्लाक के अंतर्गत  फर्जी दस्तावेज तथा कूट रचना के द्वारा नौकरी हथिया कर ग्रामीण क्षेत्र में बड़े शान से नौकरी करके बच्चों को सही गलत का पाठ पढ़ाने में लगे हुए हैं, जबकि इनके द्वारा शिक्षक कर्मी का पद प्राप्त करने के लिए जो दस्तावेज प्रस्तुत किया गया है। वह शुरू से अंत तक फर्जी तथा कूट रचना के द्वारा प्राप्त दस्तावेज को प्रस्तुत किए जाने की जानकारी मिली है यदि इनके प्रस्तुत दस्तावेज को सही तरीके से उच्च स्तरीय जांच पड़ताल में लिया जाए तो एक बहुत बड़ा खुलासा सामने आ सकता है यह केवल एक उदाहरण मात्र है।

जो अपने आप में जांच का विषय है क्यों ना इसकी शिकायत उच्च स्तर पर करके ऐसे लोगों को ढूंढ निकाला जाए जो फर्जी कागजात को देकर सम्मानजनक शिक्षक कर्मी का नौकरी को बटोर कर बड़े ठाट के साथ जीवन बसर कर रहे हैं गुप्त सूत्रों के बताए अनुसार फर्जी दस्तावेज प्रस्तुत कर नौकरी कर रहे कई मुन्ना भाइयों ने सरकार के खजाने से सेंधमारी की आधी रकम को अपने बचाव करने वाले पहलवानों के पीछे लुटाते है। यह पहलवान विरोधियों से फर्जी शिक्षक मुन्ना भाई को सलामत रखने की कार्य करता है तो कई मुन्ना भाइयों ने अपने रक्षक के रूप में चाणक्य जैसे बुद्धिमानो को पाल रखे हैं जो समय समय पर उनका ब्रह्मास्त्र बनकर विरोधी के समक्ष खड़ा हो कर रक्षा करने की कार्य करता है तो कई मुन्ना भाइयों ने पार्टी के नेता, कार्यकर्ता, का चाटुकारिता करने में लगे हुए हैं शिकायत होने पर जांच अधिकारी के ऊपर दबाव बनाकर कार्यवाही से बचा जा सके, और वर्षों से जमे हुए हैं फर्जी शिक्षाकर्मी मुन्ना भाई।

और इसी तरह कूट रचना तामझाम लगाकर अपने नौकरी को बचाने में लगे हुए हैं वही वरिष्ठ सम्मानीय लोगों के समक्ष अपने गुरुजी होने का पीठ थपथपाते दिखाई भी पड़ते हैं और सम्मान प्राप्त कर मुन्ना भाई अपने सुखी जीवन का खुशियां बटोर ने में  तत्पर नजर आते हैं।

बड़ा ही चिंताजनक विषय है फर्जी दस्तावेज प्रस्तुत कर नौकरी हड़प लिया और शासन के खजाने में सेंधमारी करने में लगे मुन्ना भाइयों के ऊपर किसी भी प्रकार से कार्यवाही नहीं होना उल्टा विभाग के द्वारा मेहरबानी करना समझ से परे है।