breaking news New

ब्रेकिंग : नक्सली हमला का मास्टरमाइंड है नक्सली नेता हिदमा..40 लाख का ईनाम है उसके सर पर..40 साल पहले बना था नक्सली..छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले का निवासी है हिदमा

ब्रेकिंग : नक्सली हमला का मास्टरमाइंड है नक्सली नेता हिदमा..40 लाख का ईनाम है उसके सर पर..40 साल पहले बना था नक्सली..छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले का निवासी है हिदमा

बीजापुर. छत्तीसगढ़ के सुकमा-बीजापुर सीमा पर नक्सलियों के साथ हुए मुठभेड़ में करीब 22 जवान शहीद हो गए, जबकि करीब 31 जवान घायल बताए जा रहे हैं. सुकमा-बीजापुर सीमा पर सुरक्षा बलों की ओर से सर्च ऑपरेशन की शुरुआत की गई थी, जिसके घंटों बाद नक्सलियों के साथ मुठभेड़ के दौरान दोनों ओर से घंटों तक हुई गोलीबारी में इतने जवान शहीद हो गए. सुरक्षा बलों की ओर से इस अभियान को शुरू करने के पीछे एक खुफिया सूचना थी. खुफिया सूचना के तहत सुरक्षा बलों को यह जानकारी मिली थी कि वांछित नक्सली नेता हिदमा छत्तीसगढ़ में छिपा है.

एक समाचार के अनुसार, छत्तीसगढ़ के जिस सुकमा और बीजापुर की सीमा पर सुरक्षा बलों की ओर से यह अभियान चलाया गया था, वहां पहले से ही नक्सलियों का एक समूह हमले के लिए इंतजार कर रहा था. जब सुरक्षा बलों के जवान वहां पहुंचे, तो उन पर ताबड़तोड़ गोलियों की बरसात कर दी गई. उधर, गोलियों की बौछार होते ही सुरक्षा बलों ने भी मुंहतोड़ जवाबी कार्रवाई करते हुए गोलियां चलानी शुरू कर दी और इस मुठभेड़ में करीब तीन घंटे तक दोनों ओर से जमकर गोलियां चलाई गईं.

हिदमा उर्फ हिदमन्ना करीब 40 साल उम्र का नक्सली है. वह छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले के पुवर्ती गांव का आदिवासी है. हिदमा तकरीबन 90 के दशक में नक्सली बना था. फिलहाल वह वह पीपल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी की बटालियन नंबर 1 का मुखिया है. हिदमा को उसके भयंकर और घातक हमलों के लिए जाना जाता है. हिदमा करीब 180 से 250 नक्सलियों का समूह का सरगना है, जिसमें महिलाएं भी शामिल हैं. इसके साथ ही, वह सीपीआई (एम) के सर्वोच्च 21 सदस्यीय केंद्रीय समिति का सबसे युवा सदस्य भी है.

हिदमा की हाल के दिनों वाली कोई तस्वीर तक उपलब्ध नहीं है. हिदमा कितना दुर्दांत नक्सली है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि सरकार ने उसके सिर पर 40 लाख रुपये का इनाम घोषित कर रखा है. खबर के अनुसार, एनआईए ने भी हिदम के खिलाफ भी मांडवी मर्डर केस में चार्ज शीट फाइल की है. भीमा मांडवी भाजपा के विधायक थे. अप्रैल 2019 में दंतेवाड़ा में उन पर हमला हुआ था, जिसमें मांडवी, उनका ड्राइवर और तीन सुरक्षाकर्मी मारे गए थे.

खबर के अनुसार, ऐसे खुफिया इनपुट थे कि 25 लाख का इनामी नक्सली कमांडर हिदमा और उसके खूंखार साथी छत्तीसगढ़ के बीजापुर में पिछले कई दिनों से कैंप कर रहे हैं. सुरक्षाबलों ने इस बात को लेकर अलर्ट जारी किया था कि ये नक्सली अपने गुरिल्ला साथियों के साथ सुरक्षाबलों और पेट्रोलिंग पार्टी पर हमला कर सकते हैं.

सूत्रों ने जानकारी दी कि नक्सली कमांडर हिदमा के नेतृत्व में सुकमा और बीजापुर के जंगलों में 150 से 160 की संख्या में नक्सली कैंप कर रहा है, जो कि सुरक्षाबलों को निशाना बना सकता है. यही नहीं, हिदमा के एक दूसरे नक्सली कमांडर के साथ 50 से 60 की संख्या में नक्सली मिलिशिया के जरिए सुरक्षाबलों पर हमला करने की फिराक में है. ऐसी भी सूचना हिदमा के साथ ही जानकारी मिली है कि वह इस समय बस्तर के इलाके में बीजापुर और सुकमा के आसपास सुरक्षाबलों के डर से भागता फिर रहा है.

सुरक्षा एजेंसियों ने जानकारी दी कि नक्सली यानी टैक्टिकल काउंटर ऑफेंसिव कैंपेन इन महीनों ( मार्च से जून) में चला रहे हैं, जिसमें उनका मकसद होता है कि ज्यादा से ज्यादा सुरक्षाबलों पर हमला कर इस दौरान नुकसान पहुंचाएं. सूत्रों ने बताया है कि नक्सलियों ने केवल छत्तीसगढ़ के दक्षिण बस्तर में ही चलाने का प्लान नहीं बनाया है, बल्कि उन्होंने काफी सालों बाद नए ट्राई जंक्शन के पास सुरक्षा बलों पर हमला करने का प्लान तैयार किया है.

सुरक्षाबलों की रिपोर्ट के मुताबिक, नक्सली का कमांडर मांडवी इंदुमल उर्फ हिदमा सुरक्षा बलों के छीने हथियार और रॉकेट लॉन्चर से हमले की फिराक में है. यही नहीं, सुरक्षाबलों के लिए रसद सामग्री के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले हेलीकॉप्टर को देसी रॉकेट लॉन्चर से गिराने की नक्सलियों ने रणनीति बनाई है. खबर के मुताबिक, शनिवार को भी बटालियन अपने कमांडर हिदमा के नेतृत्व में ही काम कर रही थी. बीते साल भी नक्सलियों ने सुकमा के मिनापा में ऐसा ही हमला किया था, जिसमें 17 जवान शहीद हुए थे.