breaking news New

अन्तर्राष्ट्रीय माँ भारती अबाध कविता महायज्ञ की लोकप्रिय कवयित्री अनामिका ने किया संचालन

अन्तर्राष्ट्रीय माँ भारती अबाध कविता महायज्ञ की लोकप्रिय कवयित्री अनामिका ने किया संचालन


एस. के."रूप"  

मनेन्द्रगढ़/अंतरराष्ट्रीय अबाध कविता पाठ का आयोजन नरेश चंद्र जोशी द्वारा एन चंद्रा मैजिक मैन के नाम से फेसबुक पेज एवं यूट्यूब चैनल पर पर किया जा रहा है इसे वर्ल्ड बुक आफ लंदन में स्थान दिया जाएगा यह किसी भी भाषा का विश्व का सबसे लम्बा काव्य पाठ है । इस माँ भारती कविता महायज्ञ में  मे भारत सहित 28 देशों के हिन्दी कवि काव्य पाठ कर रहे हैं ।

उक्ताशय की जानकारी देते हुए देश के विभिन्न मंचों पर अपनी उपस्थिति दर्ज करने वाली कवयित्री सामाजिक कार्यकर्ता अनामिका चक्रवर्ती ने बताया कि इस ऐतिहासिक आयोजन में उन्हें भी आयोजक मंडल में शामिल किया गया है साथ ही विगत दिनों उन्हें भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए एक स्लाट का जो 6 घंटे का होता है संचालन करने का भी अवसर मिला।

जिसमें 8 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया था जिसमें 3 अप्रवासी भारतीय हिंदी कवि थे।

 विगत 7 सितंबर को अनामिका चक्रवर्ती ने 45 मिनिट भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए काव्य पाठ भी किया जिसे श्रोताओं ने खूब सराहा एवं शुभकामनाएं दी।

गौरतलब  है कि एन.चंद्रा की टीम द्वारा फेसबुक पेज एवं यूट्यूब चैनल पर विश्वकीर्तिमान आबाध काव्य पाठ आयोजन किया जा रहा है जो कि 31 अगस्त से शुरू होकर निरंतर पूरे 24 घंटे चल रहा है और 14 सितंबर हिंदी दिवस के दिन विराम लेगा।

आपको बता दें यह आयोजन हिंदी भाषा को समर्पित है हिंदी पखवाड़े को मनाते हुए विश्व कीर्तिमान स्थापित करने जा रहा है।

माँ भारती कविता महायज्ञ, जो कि 31अगस्त के रात 12 बजे से हर रोज 24 घंटे निरंतर चल रहा है और यह 14 सितम्बर हिंदी दिवस के दिन जाकर थमेगा।

अंतरराष्ट्रीय ऐतिहासिक अबाध कविता पाठ को संपन्न करने वाले हैं मैजिक मैन नरेश चंद्र जोशी मुंबई के रहने वाले है और इस महायज्ञ की अध्यक्षता कर रहे हैं देश के सुविख्यात व्यंग्यकार डॉ हरीश नवल, निदेशक हैं स्वयं नरेश चंद्र जोशी  , प्रबंध निदेशक हैं पूनम सागर और सह निदेशक हैं नीता जोशी।

इस निर्बाध रूप से चल रहे कविता महायज्ञ में मनेंद्रगढ़ से अपनी कविताओं की आहूति देकर मनेंद्रगढ़ का गौरव बढ़ाने का मौका मिला है जानी-मानी साहित्यकार अनामिका चक्रवर्ती को जिन्होंने भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए अपनी कविताओं का पाठ किया।

काव्य पाठ 7 सितंबर रात 11:15 से 12:00 बजे तक चला ।  इसी एतिहासिक आयोजन में 7 तारीख के रात के 12 बजे से सुबह 6 बजे तक के स्लाॅट में अनामिका चक्रवर्ती को संचालन का भी सुअवसर प्राप्त हुआ और संचालन में संयुक्त रूप से साथ थे अभिषेक कुमार झा दिल्ली से। 

 इस स्लाॅट में काव्य पाठ करने के लिए 8 प्रतिभागी उपस्थित थे जिनमें 3 प्रतिभागी अप्रवासी भारतीय अमेरिका से लाइव हुए थे।

अनामिका चक्रवर्ती के प्रतिनिधित्व में देश के कई राज्यों से प्रतिभागी जुड़े हैं और छत्तीसगढ़ से और भी रचनाकारों को इस माँ भारती कविता महायज्ञ में अपनी कविताओं की आहूति देने का अवसर मिला है जिसमें मनेंद्रगढ़ से गौरव अग्रवाल, संतोष कुमार जैन का काव्यपाठ हो चुका है साहित्यकारो  के इस समूह में वीरांगना श्रीवास्तव, अल्पना चक्रवर्ती, रीतेश श्रीवास्तव, मृत्युंजय सोनी, सुषमा श्रीवास्तव,डॉ रश्मि सोनकर, और सूरजपुर से प्रीति घोषाल , बैकुंठपुर से एस.के.रूप, अलीशा शेख़, बिलासपुर से पल्लवी मुखर्जी, रायपुर से मोहम्मद आरिफ और वर्षा रावल, भिलाई से मीता दास, रायगढ़ से हर्ष राज हर्ष, संदीप गौड़ चिरिमिरी , तेजराम नायक रायगढ़ से वहीं

अनुराधा ओस मिर्जापुर उत्तरप्रदेश, पारूल बंसल कासगंज उत्तरप्रदेश से , दोलन राय औरंगाबाद से अपनी भागीदारी निभा रहे है।

इस कविता पाठ के विश्व कीर्तिमान में एतिहासिक अंतर्राष्ट्रीय आयोजन में भारत को प्रतिनिधित्व करते हुए सभी लोगों ने अपनी सहभागिता देकर छत्तीसगढ़ प्रदेश को और अपने अपने जिले को गौरवांवित किया है।