breaking news New

वर्चुअल सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, आर्किटेक्चर फर्म की आड़ में चल रहा था धंधा, रसूखदार आरोपी गिरफ्तार

वर्चुअल सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, आर्किटेक्चर फर्म की आड़ में चल रहा था धंधा, रसूखदार आरोपी गिरफ्तार

वडोदरा पुलिस ने शहर के अकोटा इलाके से एक वर्चुअल सेक्स कॉल सेंटर का भंडाफोड़ किया है. पुलिस ने सेंटर के संचालक के साथ 8 लड़कियों को भी गिरफ्तार किया है. यह कॉल सेंटर पिछले दो सालों से चल रहा था. सेंटर से दर्जनों लैपटॉप, वेब कैम के अलावा कई इंपोर्टेड सेक्स ट्वायज भी बरामद किए गए हैं.

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने छापेमारी के दौरान कॉल सेंटर से 8 लड़कियों को भी पकड़ा है. पूछताछ में लड़कियों ने बताया कि उन्हें इस काम के लिए 20 हजार रुपए की सैलरी मिलती थी. इन लड़कियों में 6 वडोदरा की, 1 सूरत की और एक लड़की उत्तरप्रदेश की रहने वाली है. इस रैकेट के मुख्य आरोपी नीलेश गुप्ता ने बताया कि दो सालों में उसके यहां अब तक करीब 30 लड़कियां काम कर चुकी हैं. इन लड़कियों को ग्राहकों से सेक्स चैट करनी होती थी, जिसमें सेक्स ट्वॉयज के जरिए अंग प्रदर्शन भी शामिल था.

वडोदरा के जेपी रोड स्थित पुलिस स्टेशन को इस कॉल सेंटर की गुप्त सूचना मिली थी. इसके बाद पुलिस ने सेंटर पर छापेमारी की. जांच में पता चला कि चतुर बातें नाम से यह वर्चुअल सेक्स कॉल सेंटर इंटरनेशनल लेवल पर चल रहा था. इतना ही नहीं, सेंटर का संचालक नीलेश गुप्ता अब तक इससे करोड़ों रुपयों की कमाई कर चुका है. इनमें से सवा करोड़ की कीमत के बिटक्वॉइन रशिया के इंटरनेशनल अकाउंट में भी ट्रांसफर कर चुका है.

आरोपी संचालक नीलेश ने बताया कि इंटरनेशनल वर्चुअल कॉल सेंटर में लाइव सेक्स चैट में एंट्री के लिए ग्राहकों को टोकन लेना होता था. टोकन लेने का दौरान ही इसका ऑनलाइन पेमेंट करना होता था. इसी तरह कमाई कर नीलेश बिटक्वॉइन के जरिए रूस के मास्को में रहने वाली अपनी पत्नी के अकाउंट में ट्रांसफर कर देता था. नीलेश के पास 30 वॉलेट अकाउंट होने की भी जानकारी मिली है.