breaking news New

डीएमएफटी स्वास्थ कर्मचारियों ने बंद किया काम स्वास्थ व्यवस्था चरमराई

डीएमएफटी स्वास्थ कर्मचारियों ने बंद किया काम स्वास्थ व्यवस्था चरमराई

जगदलपुर।   जिले के मेडिकल कॉलेज और महारानी अस्पताल दोनों ही जगह कुल मिलाकर करीब 500 की संख्या में कार्यरत डीएमएफटी स्वास्थ कर्मचारियों ने शनिवार की शाम से काम करना बंद कर दिया है, आज इसका असर मेडिकल कॉलेज और महारानी अस्पताल में देखने को भी मिल रहा है, दोनो ही जगहों पर स्वास्थ व्यवस्था चरमरा गई है। जिसका खामियाजा मरीजों को भुगतना पड़ रहा है।

महारानी अस्पताल में 100 से अधिक डीएमएफटी स्वस्थ कर्मचारी काम करते थे, जिनके काम पर आज नहीं आने पर महारानी अस्पताल में जहां आईसीयू सहित कई वार्डों की व्यवस्था ठप हो गई है। लोगों ने आरोप लगाया कि इसी वजह से सामान्य मरीजों को भी महारानी अस्पताल प्रबंधन मेकाज रेफर करता रहा। वहीं मेडिकल कॉलेज डिमरापाल में भी एक-एक डॉक्टर और नर्स के भरोसे दो से तीन वार्ड चल रहे हैं। अब दिक्कत यह है कि यदि जल्द ही समस्या दूर नहीं होती है तो आने वाले समय में इलाज को लेकर भी समस्या सामने आएगी। यहां वार्डों में मरीजों के लिए नर्सों से लेकर वार्ड बॉय तक की कमी थी। इसलिए कई वार्ड को बंद करना पड़ा। आईसीयू जैसे वार्ड में भी व्यवस्था ठप रही। 

उल्लेखनिय है कि जिले में खनिज न्यास निधि के माध्यम से स्वास्थ  कर्मचारियों की नियुक्ति की गई थी। लेकिन कुछ दिनों पहले इन्हें निकाल दिया गया। लेकिन बाद में इन्हें स्वास्थ्य विभाग में होने वाली भर्ती में प्राथमिकता देते हुए भर्ती करने की बात कहते हुए काम करने के लिए कहा गया। जिला प्रशासन से मिले आदेश के बाद ये कर्मचारी अब तक काम कर रहे थे। लेकिन शनिवार को इन कर्मचारियों ने मानदेय नहीं मिलने से परेशान होकर काम नहीं करने का फैसला लिया है। इन कर्मचारियों की मांग है कि हमें सेवा में यथावत रखा जाए तथा आगामी भर्तियों को रद्द करते हुए भर्तियों के स्थान पर हमें ही कार्य पर लिया जाए।