breaking news New

डोनाल्ड ट्रंप पर आर्थिक धोखाधड़ी और चुनाव में भी धांधली का आरोप

 डोनाल्ड ट्रंप पर आर्थिक धोखाधड़ी और चुनाव में भी धांधली का आरोप

अमेरिकी लोगों ने बाइडेन को  राष्ट्रपति के तौर पर चुना है. वहीं, डोनाल्ड ट्रम्प को कड़े मुकाबले के बाद हार मिली. राष्ट्रपति पद से हटते ही डोनाल्ड ट्रम्प  जेल भी जा सकते हैं.

 राष्ट्रपति रहते हुए डोनाल्ड ट्रंप पर कई घोटालों के आरोप लगे थे. लेकिन राष्ट्रपति होने की वजह से आरोप केवल आरोप ही रह गए. क्योंकि राष्ट्रपति होते हुए उन पर मुकदमा नहीं चलाया जा सकता था. अब उनकी मुश्किलें बढ़ सकती हैं. कहा जा रहा है कि राष्ट्रपति पद से हटने के बाद आपराधिक कार्यवाही के अलावा उनके वित्तीय मामलों की जांच भी की जा सकती है. 

पेस यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर बैनेट गर्शमैन ने बीबीसी को बताया कि जो बाइडेन के राष्ट्रपति बनने के बाद यह संभावना है कि डोनाल्ड ट्रंप पर आपराधिक मामले चलाए जा सकते हैं. ट्रंप पर बैंक, टैक्स, मनी लॉन्ड्रिंग, चुनावी धोखाधड़ी करने जैसे मामलों में आरोप लगे हैं. कुछ मामले तो मीडिया में भी सामने आए हैं. लेकिन जांच नहीं हुई. 

वहीं, न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रंप पर 30 करोड़ डॉलर से ज़्यादा का कर्ज़ है जो उन्हें आने वाले चार सालों में चुकाना है. कोरोना की वजह से निज़ी निवेश अच्छी स्थिति में नहीं हैं. इस वजह से ट्रंप के राष्ट्रपति न रहने पर लेनदार कर्ज़ के भुगतान को लेकर कोर्ट जा सकते हैं. 

गौरतलब है कि डोनाल्ड ट्रंप पर इसी साल घोटालों के आरोपों के चलते महाभियोग चलाया गया, लेकिन वो सफलतापूर्वक इससे बरी हो गए. उनके आलोचकों का कहना है कि महाभियोग के वक्त चलाई कई जांच और प्रक्रियाएं राष्ट्रपति को अभियोग से मिली सुरक्षा के दौरान हुई थीं. जिसकी वजह से न्याय व्यवस्था में ट्रंप की दखलअंदाजी भी हुई. 

डोनाल्ड ट्रंप पर आर्थिक धोखाधड़ी के अलावा चुनाव में भी धांधली करने का आरोप लगा था. जानकार बताते हैं कि मैनहटन के लिए अमेरिकी अटॉर्नी ने ट्रंप को माइकल कोहेन के साथ साज़िश में शामिल होने की बात कही थी. जिसके बाद साल 2018 में माइकल कोहेन को चुनावी गड़बड़ियों के लिए दोषी पाया गया था. लेकिन ट्रंप पर कोई आंच नहीं आई. इसके अलावा डोनाल्ड ट्रंप के साथ अफ़ेयर होने का दावा कर चुकी पॉर्न एक्ट्रेस स्टॉर्मा डैनियल्स को 2016 के चुनावों में पैसे देने का भी आरोप लगा था.