breaking news New

मुख्य मार्ग पर घंटो चक्काजाम, लोग होते रहे परेशान, मांग को लेकर सर्व आदिवासी ने सौपे ज्ञापन

मुख्य मार्ग पर घंटो चक्काजाम, लोग होते रहे परेशान, मांग को लेकर सर्व आदिवासी ने सौपे ज्ञापन


भानुप्रतापपुर। 22 सूत्रीय मांगों को लेकर सर्व आदिवासी समाज ने आज 20 सितंबर  सोमवार को एक दिवसीय जिला स्तरीय महाबंद एवं चक्काजाम आंदोलन करते हुए राज्यपाल, मुख्यमंत्री एवं प्रमुख सचिव के नाम से एसडीएम भानुप्रतापपुर को ज्ञापन सौपा गया।

इस दौरान भानुप्रतापपुर, दुर्गुक़ोंदल, कच्चे, कोरर का प्रमुख मार्ग बंद रहे। वही सभी प्रतिष्ठाने भी बंद रहे। आवागमन पूरी तरह से प्रभावित रहा है।

 प्रमुख मांगे 

 मानक दरपट्टी जिला अध्यक्ष गोंडवाना समाज कांकेर ने कहा कि सर्व आदिवासी समाज संविधान में दिए गए अधिकारों की मांग कर रहा है। प्रदेश सरकार भी वर्ष 2018 में चुनावी घोषणा पत्र में वायदा किया था कुछ मांगे आदिवासियों पर हो रहे अत्याचार को लेकर भी है। उन्होंने कहा कि सर्व आदिवासी समाज पहले भी मांग को लेकर आंदोलन, आर्थिक नाकाबंदी जैसे कदम उठा चुकी है, मांग पूरी नही होते देख समाज के द्वारा एक दिवसीय जिला स्तरीय महाबंद एवं चक्काजाम आंदोलन किया गया है। आगे और भी उग्र आंदोलन किया जाएगा।


 कृष्णा टेकाम ब्लाक अध्यक्ष सर्व आदिवासी समाज भानुप्रतापपुर ने कहा कि छत्तीसगढ़ के आदिवासी समाज द्वारा प्रदेश स्तरीय आह्वान पर संवैधानिक अधिकारों के लिए पूर्व में छत्तीसगढ़ राज्य के शासन - प्रशासन का सूचना देकर दिनांक 19 जुलाई , 2021 से 26 जुलाई , 2021 तक चरणबद्ध प्रदेश में स्थानीय मुददे के साथ ब्लाक स्तरीय धरना का आयोजन किया गया । उपरात 30 अगस्त से 31 अगस्त 2021 शांतिपूर्ण आर्थिक नाकेबंदी कर शासन को अपनी मागो के लिए अगाह करने का प्रयास किये परन्तु उन मुद्दों पर छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से कोई भी आश्वासन या संवाद के लिए पहल नहीं किया गया तथा शासन एवं जिला प्रशासन के द्वारा भी सवादहीनता एवं स्थानीय मुददो पर सामाज की उपेक्षा की गई है । 

शासन - प्रशासन के उक्त्त रवैये से प्रदेश का आदिवासी समाज अत्यंत नाराज होकर 05 सितम्बर 2021 को रायपुर में प्रदेश स्तरीय बैठक में सर्वसम्नति से अपने संवैधानिक मांगों को पूर्ण कराने के लिए समूचे प्रदेश में जिला / ब्लाक स्तरीय महावन्द का निर्णय लिया है ।

 बसो की पहिये थमे रहे 

सुबह से लेकर दोपहर 3 बजे तक बजे तक प्रमुख मार्गों पर चक्का जाम के चलते बस सेवा बंद रही वही दूसरे जिला के पास भी कांकेर जिला के सीमा क्षेत्र में मार्ग खुलने का घंटो प्रतिक्षा करते नज़र आये है। सबसे अधिक परेशानी उन यात्रियों को उठानी पड़ी जो कर्मचारी है। इन्ही कारणों से कई कर्मचारियों अपने ड्यूटी पर नही पहुच पाए है। 

 प्रतिष्ठाने बंद रहे 

शासकीय कार्यालय, बैंक, पेट्रोल पम्प एवं हॉस्पिटल को छोड़कर सभी दुकाने सुबह से बंद रही जिसके चलते रोजमर्रा के सामानों के लिए लोग इधर-उधर भटकते नज़र आये। शासकीय कार्यालयों एवं बैंक में भी रौनकता नही रही।

 मुख्य चौक पर विवाद 

मेन चौक ओर लगभग दो बजे के आस-पास अंतागढ़ से भानुप्रतापपुर की ओर से रहे ट्रक वाहन के चालक ने लापरवाही पूर्वक तेज गति से वाहन चलाते हुए ठोकर मारते-मारते बचा है। चौक पर डटे रहे लोगो ने ड्राइवर को रोककर गाली गलौच करते हुए मारपीट किया गया। मौके पर उपस्थित पुलिस ने ड्राइवर को समझाते हुए वापस कराया है। इसके चलते वहा पर आधे घंटे गरमा गरमी मौहल रहा है।