breaking news New

मालखरौदा क्षेत्र के युवा किसान एवं महिलाओं द्वारा एक दिवसीय धरना

मालखरौदा क्षेत्र के युवा किसान एवं महिलाओं द्वारा एक दिवसीय धरना

 

मालखरौदा/क्षेत्र के युवा ,किसान एवं महिलाओं द्वारा निर्धारित दर पर यूरिया पोटाश डीएपी उपलब्ध कराए जाने ,अवैध शराब बिक्री पर रोक लगाए जाने ,अवैध खाद एवं दवाई बिक्री पर कार्यवाही किए जाने ,क्षेत्र के समस्त अधिकारी कर्मचारियों को मुख्यालय में निवास सुनिश्चित करने ,ब्लाक अंतर्गत आने वाले सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एवं उप स्वास्थ्य केंद्रों में 24 घंटे स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने तथा मोबाइल नेटवर्क की सर्विस दुरुस्त करने की मांग को लेकर एक दिवसीय  तहसील कार्यालय के सामने धरना दिया गया इस अवसर पर वक्ताओं ने क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों एवं पुलिस तथा कृषि विभाग के अधिकारियों को  जमकर कोसा साथ ही कांग्रेस सरकार द्वारा वादे के अनुसार पूरी तरह अवैध व वैध शराब बिक्री पर रोक लगाए जाने की मांग किया इसके अलावा ₹270 की यूरिया को ₹500 तक में बेचने वाले खाद विक्रेताओं को लेकर जमकर भड़ास निकाला तथा इन पर छापामार कार्रवाई किए जाने की मांग किया इसके साथ ही विभिन्न कंपनियों के मोबाइल टावर गांव गांव में लगा हुआ है लेकिन सर्विस के नाम पर सिग्नल ही नहीं है जिसके कारण लोगों को एक दूसरे से बात ही नहीं हो पा रहा है ऑनलाइन कार्य ठप हो जा रहा है इस पर आवश्यक सुधार किए जाने की मांग किया गया इसके साथ ही क्षेत्र के ब्लॉक मुख्यालय के कार्यालय में पदस्थ अधिकारी कर्मचारी जो मुख्यालय में ना रह कर दूरदराज से आना-जाना करते हैं जिसके कारण क्षेत्र के ग्रामीणों को उनके आने का इंतजार करते रहना पड़ता है

वही निर्धारित समय से पहले ही घर को लौट जाते हैं जिसके कारण ग्रामीणों का कार्य नहीं हो पा रहा है जिसके लिए भी ग्रामीणों ने सभी अधिकारी कर्मचारियों को मुख्यालय में ही निवास के लिए निर्देशित करने की मांग  उच्च अधिकारियों से किया है अंत में अनुविभागीय अधिकारी को मंच पर ही ज्ञापन सौंपा गया कार्यक्रम में बड़ी संख्या में युवा किसान महिलाएं शामिल थे।

जिसमें विजेंद्र पाल शतरंज ,लालसाय खूंटे मनहरण कमलेश- पूर्व विधानसभा प्रत्याशी चंद्रपुर,वीरेंद्र कुर्रे प्रदीप खुटे टिकेश्वर चंद्रा-जनपद सदस्य,रेवती नाथ ,  साहू बाबूलाल चंद्रा ,तरुण भारद्वाज, आर बंजारे ,जीवन कुर्रे जसवीर बंजारे, ईश्वरी कुर्रे,  राजू बंजारे  ,बसंत खांडे, राकेश गर्ग, संदीप मनहर, बहुत सारे युवा किसान ने अपना वक्तव्य रखा जिसमें युवा किसानों का कहना है कि अगर 15 दिवस के अंदर इन 6 मांगों को पूरा नहीं किया जाता है तो उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होंगे !