breaking news New

रेलवे ने दी यात्रियों को बड़ी राहत, 150 से ज्यादा पैसेंजर ट्रेनें हुईं एक्सप्रेस, लेकिन किराया ज्यादा देना होगा

रेलवे ने दी यात्रियों को बड़ी राहत, 150 से ज्यादा पैसेंजर ट्रेनें हुईं एक्सप्रेस, लेकिन किराया ज्यादा देना होगा

नई दिल्ली. लंबी दूरी तय करने वाले पैसेंजर ट्रेनों को एक्सप्रेस में परिवर्तित करने का फैसला किया गया है। दिल्ली से अलग-अलग शहरों को जोड़ने वाली भी छह पैसेंजर ट्रेनें भी आने वाले दिनों में एक्सप्रेस बनकर चलेंगी। रेल प्रशासन के इस फैसले से रेल यात्री कम समय में सफर कर सकेंगे, लेकिन इसके लिए उन्हें ज्यादा किराया भी देना होगा।

दिल्ली से फिरोजपुर कैंट, कालका, हरिद्वार सहित अन्य कई शहरों के लिए पैसेंजर ट्रेनें चलती हैं। इसमें सफर करने वाले यात्रियों को गंतव्य तक पहुंचने में काफी समय लगता है। कई पैसेंजर ट्रेनें दो सौ किलोमीटर की दूरी 10 से 12 घंटे में तय करती हैं। वहीं, एक्सप्रेस ट्रेनें चार से छह घंटे में यह दूरी तय कर लेती हैं। अब रेल प्रशासन ने दो सौ किलोमीटर या इससे ज्यादा दूरी तक चलने वाली कुछ पैसेंजर ट्रेनों को एक्सप्रेस में परिवर्तित करने का फैसला किया है। यह काम चरणबद्ध तरीके से होगा।

फिलहाल देशभर में 181 पैसेंजर ट्रेनों को एक्सप्रेस बनाया जा रहा है। सबसे ज्यादा दक्षिण मध्य रेलवे में 23 ट्रेनें एक्सप्रेस में परिविर्तित हो जाएंगी। उसके बाद उत्तर पश्चिम रेलवे में 22 ट्रेनों को एक्सप्रेस बनाने की तैयारी है। उत्तर रेलवे में भी लंबी दूरी तय करने वाली दस पैसेंजर ट्रेनें अब एक्सप्रेस बन जाएंगी। नए टाइम टेबल में यह बदलाव देखने को मिलेगा। अधिकारियों का कहना है कि अभी नियमित ट्रेनों का परिचालन बंद है। कोरोना संक्रमण का प्रकोप खत्म या कम होने के बाद गृह मंत्रालय से अनुमति मिलने के बाद ट्रेनों का नियमित परिचालन शुरू होगा और उससे पहले नया टाइम टेबल भी घोषित हो जाएगा।

पैसेंजर ट्रेन से दिल्ली से फिरोजपुर कैंट का सफर 12.25 घंटे में तय होता है। वहीं, इंटरसिटी एक्सप्रेस यह दूरी 7.40 घंटे में तय करती है। इसी तरह से दिल्ली से हरिद्वार पैसेंजर ट्रेन से जाने में 12 घंटे से ज्यादा समय लगता है, जबकि एक्सप्रेस ट्रेनों से यह दूरी चार से आठ घंटे में तय हो जाती है। पैसेंजर ट्रेन से बड़ी संख्या में दैनिक यात्री भी सफर करते हैं, क्योंकि इनका ठहराव प्रत्येक रेलवे स्टेशन पर होता है। एक्सप्रेस बनने के बाद इनका ठहराव भी कम होगा।