breaking news New

एम्स' भी लॉकडाउन, 36 विभागों की ओपीडी बंद, मरीज हलाकान, प्रबंधन ने सारा स्टॉफ कोरोना में लगाया

एम्स' भी लॉकडाउन, 36 विभागों की ओपीडी बंद, मरीज हलाकान, प्रबंधन ने सारा स्टॉफ कोरोना में लगाया

रायपुर. कोरोना को लेकर पूरा देश अलर्ट हो चुका है और पीएम मोदी इस वायरस के निदान के लिए जनता से अपील करते हुए लॉकडाउन किया है। यह बात सच है कि कोरोना जैसे संक्रमण से निपटने के लिए सभी को सहयोग करना चाहिए। मगर कहीं न कहीं कोरोना के नाम पर शहर के अस्पताल फायदा ले रहे हैं। इसका जीता जागता उदाहरण देखने को मिला अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान रायपुर में। एम्स में पिछले एक सप्ताह से नियमित ओपीडी को बंद कर दिया गया है। साथ ही सोमवार को नया आदेश जारी करते हुए प्रबंधन ने अपने शेष 36 विभागों की ओपीडी को भी बंद कर दिया है।

जिससे रोजाना सात सौ से अधिक मरीज प्रभावित हो रहे हैं। जबकि एम्स के अधीक्षक डॉ. करण पीपरे ने साफ तौर पर जानकारी दी थी की अस्पताल में परमोनरी विभाग का गठन किया गया है जिसमें 15 मेडिकल अफसरों की टीम कोरोना वायरस पर काम कर रही है। फिर भी इसके बावजूद अन्य विभागों के चिकित्सकों को अपनी सेवाओं से मुक्त करने की बात हैरानी है।

इमरजेंसी केस देखेंगे डॉक्टर्स
एम्स के प्रशासन विभाग के उप निदेशक नीरेश शर्मा ने बताया कि ओपीडी तो बंद की है मगर इमरजेंसी सेवाएं जारी रहेंगी। मगर बात यह है कि जब कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों की स्क्रीनिंग और काउंसलिंग आयुष भवन में की जा रही है तो 36 विभागों के डॉक्टर्स को भी कोरोना के नाम पर अपनी सेवाओं से मुक्त किया जा रहा है। जबकि एम्स में रोजाना सात सौ से हजार मरीज ओपीडी में आते हैं।

मेकाहारा में जारी है ओपीडी
ऐसा नहीं है कि कोरोना वायरस से केवल एम्स प्रबंधन ही जूझ रहा है। राजधानी के अन्य अस्पताल जिसमें डीकेएस, जिला अस्पताल और भीमराव आंबेडकर अस्पताल भी नोबेल कोरोना वायरस के लिए प्रयत्नशील है। मगर आम लोगों की चिंता करते हुए वहां ओपीडी चालू है। केवल एम्स ही इकलौता संस्थान है जो मनमानी पर उतरा है।

सतर्क हैं कोरोना को लेकर
जबसे समता कॉलोनी की छात्रा कोरोना से पीडि़त हुई है। हमारा प्रबंधन अलर्ट हुआ है। हालाकि कोरोना को लेकर हमने परमोनरी विभाग का गठन किया है। अन्य विभागों की ओपीडी को बंद करने का आदेश दिया गया है। अन्य मरीजों को अगर दिक्कत आ रही है तो इस पर विचार-विमर्श किया जाएगा। 
डॉ. करण पीपरे, अधीक्षक एम्स रायपुर