breaking news New

अन्नदाता की बात सुनने के बजाय किसानों पर हमला करवा रही मोदी सरकार : कांग्रेस

अन्नदाता की बात सुनने के बजाय किसानों पर हमला करवा रही मोदी सरकार : कांग्रेस

नयी दिल्ली।  कांग्रेस ने कहा है कि देश का किसान कृषि विरोधी कानूनों को खत्म करने की मांग को लेकर लम्बे समय से धरना दे रहा है लेकिन मोदी सरकार देश के अन्नदाता की बात सुनने की बजाय किसानों पर हमला करवा रही है।

कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने यहां जारी एक बयान में कहा कि भारतीय जनता पार्टी की केन्द्र, हरियाणा तथा उत्तर प्रदेश की सरकारें किसानों को न्याय देने के बजाय किसान- मजदूरों के गांधीवादी आंदोलन को दबाने तथा कुचलने में लगी हैं। तीन कृषि विरोधी काले कानूनों से किसानों की आजीविका पर हमला कर और न्याय मांगते किसानों को दिल्ली नहीं आने दिया जा रहा है और उन पर हमला किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि किसान पिछले नौ महीने से अधिक समय से कृषि विरोधी कानून को वापस लेने की मांग को लेकर दिल्ली की सीमाओं पर बैठे है और धरना दे रहे हैं। इन नौ माह के दौरान 800 से अधिक किसान आंदोलन में अपनी कुर्बानी दे चुके। उन्होंने सवाल किया कि किसानों की मौत के लिए कौन जिम्मेदार है। किसानों से बातचीत के नाम पर भाजपा के मंत्रियों ने ऐंठ दिखाई, बात मानने से इंकार कर दिया तथा तीनों काले कानूनों पर पुनर्विचार तक करने से इंकार तक कर दिया।

कांग्रेस ने इसे भाजपा सरकार के अहंकार की पराकाष्ठा बताया और कहा कि यह सरकार जन विरोधी है और किसानों की दुश्मन है इसलिए किसानों की मांग पर विचार करने की बजाए उनके साथ अन्याय कर रही है। उन्होंने कहा कि हरियाणा में जिन लोगों ने किसानों पर हमला करवाया है उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।