breaking news New

ब्रेकिंग न्यूजः देश के प्रधानमंत्री पर भरोसा न करें तो किस पर करें -भूपेश बधेल

ब्रेकिंग न्यूजः देश के प्रधानमंत्री पर भरोसा न करें तो किस पर करें -भूपेश बधेल


0 केन्द्र सरकार हमारे साथ व्यवहार नही कर रही है , जैसा राज्यों के साथ करना चाहिए
0 केन्द्र से टीका मिलेगा तो  एक मई से लगेगा

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज मीडिया से जुड़े प्रतिनिधियों, संपादकों सेबात करते हुए कहा कि केन्द्र सरकार हमारे साथ वैसा व्यवहार नही कर रही है जैसा उसे राज्यो केसाथ करना चाहिए ।बात जी एस टी की हो या अन्य केन्द्रीय करों से मिलने वाली राशि की केन्द्रसरकार अंड़गेबाजी करके हमें परेशान करने का काम कर रही है । एक मई से प्रारंभ होने वालाटीकाकरण कार्यक्रम केन्द्र से टीका मिलने के बाद ही शुरू हो पायेगा ।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बधेल ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री ने 18 साल से  उपर आयु वर्ग के लिए जिस राष्ट्रव्यापी वैक्सीनेशन प्रोग्राम कीघोषणा की है, वह छत्तीसगढ़ में तभी चालू हो पायेगा जब हमें केंद्र के माध्यम से वैक्सीन मिले।अभी तक केंद्र की ओर से कोई जवाब नहीं मिला हमारी तैयारी पूरी है। हमने दो कंपनियों को 50 लाख टीकों का आर्डर दे दिया है। एक मई से वैक्सीनेशन के प्रधानमंत्री की बात पर विश्वासकरके हमने सारी तैयारी कर ली है। बस कोरोना वैक्सीन मिल जाये। हम 1 मई को वैक्सीनेशनप्रारंभ कर देंगे। राज्य में 18 से 45 वर्ष आयु के एक करोड़ 35 लाख लोग हैं जिसके वैक्सीनेशनपर एक हजार करोड़ रुपये से अधिक की राशि लगेगी।

भूपेश बघेल ने बताया कि रायपुर, दुर्ग में कोरोना का संक्रमण काफी कम हुआ है। छत्तीसगढ़ केगांव-गांव में कोरोना कीट बांटे गये हैं। लोगों के योगदान से कोरोना के मामलों में काफी कमी आईहै। अभी तक वैक्सीनेशन में हम पूरे देश में दूसरे नंबर पर है। मुख्यमंत्री ने बताया कि जिस तरह सेआईसीएमआर ने कोरोना की पहली लहर के समय मेडिकल प्रोटोकाल जारी किया था, दूसरीलहर को लेकर इस तरह का कोई प्रोटोकाल जारी नहीं हुआ। यदि तीसरी लहर आती है तो पतानहीं क्या होगा। हम अपने राज्य के विशेषज्ञों की सलाह से दवाईयों की जानकारी दे रहे हैं किन्तुआईसीएमआर को दवाओं का प्रोटोकाल जारी करना चाहिए ताकि दवाओं को लेकर भ्रम कीस्थिति न बने।

मुख्यमंत्री ने बताया कि राज्य ने आक्सीजन की किसी तरह की कमी नहीं है। छत्तीसगढ़ से आमराज्यों को आक्सीजन दिया जा रहा है। राज्य अस्पतालों में बिस्तरों की भी कोई कमी नहीं है।कोरोना जांच को बढ़ाने के लिये 14 लैब तैयार किये गये हैं। पिछले साल केवल एम्स मेंआईटीपीसीआर रिपोर्ट की जांच होती थी अब 6 मेडिकल कालेजों सहित, चार जिला मुख्यालयोंऔर मुंगले, बालोद में भी लैब प्रारंभ की जा रही है। रायपुर में जांच की गति को बढ़ाने लैब बढ़ानेकी कोशिश जारी है। कुछ निजी क्षेत्रो में भी इसकी जांच हो रही है।

एक प्रश्न के जवाब में मुख्यमंत्री ने बताया कि जिन शासकीय सेवकों की मृत्यु कोरोना संक्रमण सेहुई है, उनकी जानकारी एकत्र करके उनके परिवारजनों को अनुकंपनानियुक्ति देने पर विचारकिया जायेगा। उन्होंने राज्य में रेमडेसिविर जैसे इजेंंक्शन की मारामार से इंकार करते हुए कहाकि डाक्टरों की सलाह पर यह उपलब्ध कराया जा रहा है।

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि एक देश एक दाम को लेकर हमने प्रधानमंत्री और केंद्र सरकार को पत्रलिखा, उनका ध्यान दिलाया किन्तु अभी भी दवा कंपनियों द्वारा अलग अलग दरों पर वैक्सीन देनेकी बात कही जा रही है।

मुख्यमंत्री ने लोगों के बीच से कोरोना का डर निकालने के लिए लगातार संवाद की बात करते हुएकहा कि कोरोना डराता बहुत है, लोग डिप्रेशन में चले जाते हैं। ऐसे लोगों को हौसला बढ़ाने उनसेबात करना जरूरी है। उन्होंने बताया की वे रोज समस्या के अलग अलग लोगों से बात करकेउनकी हौसला अफजाई करते हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना का पहला केस छत्तीसगढ़ में हवाई मार्गसे विदेश से आया था। जिसे हमने रोक लिया किन्तु यह दूसरी लहर सड़क मार्ग से विदर्भ सेछत्तीसगढ़ लौटे लोगों के जरिये गांव-गांव तक पहुंची है।उन्होने कोरोना से प्रभावित मीडियाकर्मियों को आर्थिक सहयोग करने की बात कहते हुए उन्हे कोरोना वारिर्यस करार देकर अपनाख्याल रखमे कहा ।