breaking news New

शासकीय कमलादेवी राठी महिला स्नाकोत्तर महाविद्यालय में दो दिवसीय स्वास्थ्य शिविर का आयोजन

शासकीय कमलादेवी राठी महिला स्नाकोत्तर महाविद्यालय में दो दिवसीय स्वास्थ्य शिविर का आयोजन

राजनांदगांव। शासकीय कमलादेवी राठी महिला स्नाकोत्तर महाविद्यालय में महाविद्यालयीन यूथ रेडक्रास सोसाईटी द्वारा 17 एवं 18 नवंबर 2021 को दो दिवसीय स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया।

 सेहत कार्यक्रम के अंतर्गत कॅप्टन एसी पोखरियाल (सेवानिवृत्त) एवं उनके टीम के सहयोग से संचालित स्वास्थ्य शिविर का शुभारंभ 17 नवंबर को महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. सुमन सिंह बघेल द्वारा स्वास्थ्य जांच कक्ष का रिबन काट कर किया गया। प्राचार्य ने सर्वप्रथम अपना स्वास्थ्य परीक्षण कराया और महाविद्यालयीन स्टाफ को अपना परीक्षण कराने हेतु प्रेरित किया। 

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि इस स्वास्थ्य शिविर में एक साथ अनेक महत्वपूर्ण स्वास्थ्य परीक्षणों की व्यवस्था निःशुल्क उपलब्ध है, जिसे उच्च स्तरीय मशीनों के माध्यम से कम से कम समय में किया जा रहा है। महाविद्यालय के तृतीय एवं चतुर्थ वर्ग के कर्मचारियों के लिए यह एक सुनहरा अवसर है।

 शिविर में विशेष रूप से इसीजी, हाइपर टेंशन, शुगर, बीएमआई, इयर टेस्ट, हार्टरेट, पल्सरेट, ऑक्सीजन लेवल तथा यूरिन टेस्ट की निःशुल्क सुविधा उपलब्ध थी। शिविर के प्रथम दिवस महाविद्यालय स्टाफ के लगभग 50 लोगों का संपूर्ण स्वास्थ्य परीक्षण किया गया है, असामान्य रिपोर्ट आने पर आवश्यकतानुसार विशेषज्ञ चिकित्सकों से परामर्श एवं समाधान की व्यवस्था रखी गयी थी। द्वितीय दिवस 18 नवंबर को महाविद्यालय की 60 छात्राओं ने अपना स्वास्थ्य परीक्षण करवाया।

 महाविद्यालय में मनोविज्ञान विभाग के अध्यक्ष एवं यूथ रेडक्रास यूनिट के प्रभारी डॉ. बसंत कुमार सोनबेर ने बताया कि आज भाग दौड़ की जिंदगी में व्यक्ति तब तक अपना स्वास्थ्य परीक्षण नहीं कराता, जब तक उसे कोई गंभीर स्वास्थ्यगत समस्या नहीं हो जाती है और तब तक देर हो चुकी होती है। इस शिविर का आयोजन लोगों को अपने स्वास्थ्य जांच के लिये अवसर प्रदान करने के साथ-साथ स्वास्थ्य के लिए जागरूक करना भी हैं। 

इस अवसर पर रेडक्रास के जिला संगठक प्रदीप शर्मा विशेष रूप से उपस्थित रहे। स्वास्थ्य शिविर के आयोजन में मनोविज्ञान विभाग के डॉ. ओमप्रकाश शर्मा, डॉ. श्रीमती मोना माखिजा, सुश्री राखी देवांगन एवं रेडक्रास यूथ यूनिट की छात्रा डिम्पल तथा उनकी साथियों का विशेष योगदान रहा।