breaking news New

देवउठनी एकादशी के लिए चांपा पहुंचा गन्ना का बंपर स्टॉक : हर वर्ष गौशाला में लगता है गन्ना मेला

देवउठनी एकादशी के लिए चांपा पहुंचा गन्ना का बंपर स्टॉक : हर वर्ष गौशाला में लगता है गन्ना मेला

चांपा। हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी चांपा के हृदय स्थल गौशाला के प्रांगण में पूजा के लिए गन्ना किसानों द्वारा गन्ना का भरपूर पैदावार को लेकर इस वर्ष पुनः चांपा पहुंचकर सालों पुरानी परंपरा का निर्वहन करना वे नहीं भूले और समाचार लिखे जाने तक चांपा गौशाला के प्रांगण में गन्ना का जबरदस्त मेला देखा जा रहा है !

चांपा जिला उप मुख्यालय के कई ग्रामीण क्षेत्रों के गन्ना किसान अपनी मेहनत की भरपूर उपार्जन गन्ना को लेकर एक बार पुनः चांपा नगर के हृदय स्थल गौशाला के प्रांगण में गन्ना को लेकर पहुंचने से गन्ना मेला का माहौल देखा जा रहा है !

जहां गन्ना किसानों की उपस्थिति और जबरदस्त गन्ना का बंपर स्टाफ को देखकर नगर वासी गदगद हो रहे हैं तो वहीं आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों से पहुंच रहे लोगों द्वारा जमकर गन्ना की खरीदी की जा रही है जिसका कारण यह बताया जा रहा है कि कल हिंदू धर्म एवं परंपरा के अनुसार देवउठनी एकादशी जिसे तुलसी विवाह के रूप में भी मान्यता रही है का त्यौहार बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जाएगा जिसमें शालिग्राम और तुलसी माता के विवाह आयोजन को मान्यता अनुसार संपन्न किया जाता है !

जिसमें पूजा के दौरान गन्ना का विशेष महत्व के चलते पूजा अर्चना में गन्ना के फसल को रख कर पूजा एवं व्रत के कार्यक्रम को संपन्न किया जाता है जिसके कारण पूजा के दौरान गन्ना फसल को विशेष महत्व दिया जाता है और इसके साथ ही अब शादी विवाह जैसे शुभ लग्न का शुरुआत होता है इसलिए इस देवउठनी एकादशी तथा तुलसी विवाह के पर्व को बड़े धूमधाम से मनाया जाता रहा है !

जिसके कारणों से उप मुख्यालय चांपा क्षेत्र के करनौद, सोठी,अफरीदी, कमरीद, डभरा,जैसे अनगिनत ग्रामीण क्षेत्रों से गन्ना किसान अपने वर्ष भर की कमाई के रूप में गन्ना के फसल को लेकर एक बार पुनः चांपा के गौसाला पहुंच चुके हैं जहां उन्हें अपनी मेहनत के फसल के बदले उन्हें अच्छी आमदनी प्राप्त हो जाती है इन्हीं कारणों से इन ग्रामीण गन्ना किसानों के द्वारा सालों से चांपा के गौशाला पहुंचने से मानो ऐसा लगता है कि यहां गन्ना मेला का आयोजन किया जा रहा है जो चांपा सहित जांजगीर-चांपा जिले के लिए किसी बेशकीमती धरोहर से कम नहीं है