breaking news New

20 सूत्रीय जमीन की रजिस्ट्री को लेकर क्यों हुआ बवाल, पढ़िए पूरी खबर

20 सूत्रीय जमीन की रजिस्ट्री को लेकर क्यों हुआ बवाल, पढ़िए पूरी खबर


ग्राम पंचायत ने प्रस्ताव किया पारित, 35 साल पहले ओषधी पौधे रोपण के लिए दिया गया था जमीन 20 सूत्रीय जमीन, 35 साल में कभी नही किया गया रोपण कार्य 

नारायणपुर - नारायणपुर जिले के ग्राम पंचायत गढ़बेंगाल के सैकड़ो ग्रामीण ग्राम पंचायत मुख्यालय से रैली निकालकर जिला मुख्यालय पहुच जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौपकर शासकीय भूमि को जमीन दलालों द्वारा कराई गई रजिस्ट्री को निरस्त करने की मांग की ।

ग्रामीणों का कहना है कि शासन द्वारा विनय कुमार मजूमदार को औशधि पौधे रोपण के लिए लगभग 35 साल पहले 20 सूत्रीय भूमि आवंटित की गई थी लेकिन उनके द्वारा कोई भी कार्य नही किया गया । इसलिए वर्ष 2019 में उक्त भूमि को ग्राम पंचायत द्वारा प्रस्ताव पारित कर खेल मैदान के लिए आवंटित किए जाने का ज्ञापन तत्कालीन कलेक्टर को ज्ञापन सौपा गया था लेकिन उक्त भूमि का रजिस्ट्री कर  विक्रय कर दिया गया जो कि गलत है !


उक्त भूमि को स्कूली बच्चों के मैदान के लिए आवंटित किया जाना चाहिए । जब उक्त भूमि ओषधी पौधे रोपण के नाम पर दी गई थी तो उन्होंने कोई कार्य इतने सालों तक नही किया तो उक्त भूमि स्वतः ही शासन को वापस हो जानी चाहिए और उक्त भूमि को स्कूली बच्चों के खेल मैदान के लिए आवंटित कर दिया जाना चाहिए ।

कांडेराम पूर्व सरपंच व रजनु नेताम प्रदेश महामंत्री कांग्रेस पार्टी  का कहना है कि नारायणपुर जिला मुख्यालय से 5 किलोमीटर दूर ग्राम गढ़बेंगाल में नवीन स्कूल भवन के पास बच्चों के खेल के लिए मैदान के लिए ग्राम पंचायत द्वारा प्रस्ताव पारित कर आवंटन किये जाने की मांग तत्कालीन कलेक्टर  से ज्ञापन सौपकर किया था । लेकिन उक्त भूमि शासन द्वारा 35 साल पहले ओषधी पौधे के रोपण लिए विनय कुमार मजूमदार को आवंटित की गई थी लेकिन ओषधी पौधे रोपण का कार्य नही किया गया और अब इतने सालों बाद जमीन दलालों ने भृष्टाचार कर उक्त 20 सूत्रीय भूमि की रजिस्ट्री करा ली जिसके विरोध में सैकड़ो ग्रामीण पंचायत से रैली निकालकर उक्त भूमि बच्चो के खेल मैदान के लिए आवंटित करने की मांग को लेकर जिला मुख्यालय पहुचे है ।