breaking news New

सक्ती पालिका को बदनाम करने की नियत से भ्रामक समाचार छापने वाले संपादक को नोटिस

सक्ती पालिका को बदनाम करने की नियत से भ्रामक समाचार छापने वाले संपादक को नोटिस

सक्ती - नगर पालिका परिषद सक्ती के संबंध में दो दैनिक समाचार पत्रों में भ्रामक समाचार एवं नगर पालिका को बदनाम करने की नियत से भ्रामक समाचार छापने वाले संपादक को नोटिस दिया गया है।  समाचार पत्र के माध्यम से लोगों में आक्रोश फैलाने एवं सत्ताधारी नगर पालिका अध्यक्ष को बदनाम करने  नगरपालिका के मुख्य नगरपालिका अधिकारी ने समाचार पत्र के संपादक को भेजा  नोटिस  नगर पालिका परिषद सक्ती  के संबंध में दो  समाचार पत्र में समाचार प्रकाशन किया गया था!

जिसका हेडिंग था कागजों में बन गई 64 लाख की सड़क जबकि  अभी सड़क का निर्माण कार्य प्रारंभ  हुआ  था और जितना मिट्टी मुरूम  का कार्य हुआ था जितने का कार्य हुआ है उतना ही भुगतान ठेकेदार को किया गया सड़क का कार्य अधूरा है और सड़क कार्य की बची हुई राशि आज भी नगर पालिका में जमा है परंतु समाचार प्रकाशन करने वाले ने  बिना किसी जानकारी और ना ही मुख्य नगरपालिका अधिकारी से इस संबंध में किसी प्रकार की जानकारी ना लेकर नगर पालिका एवं सत्ताधारी अध्यक्ष को बदनाम करने की नियत से समाचार प्रकाशन किया है !

दूसरा समाचार जिसमें मंडी बनाने के लिए आए एक करोड़ 73 लाख रुपए को कहीं अन्य मद में खर्च करने का आरोप लगाया गया है जबकि शासन प्रशासन द्वारा उक्त राशि ना तो स्वीकृत की गई है ना ही कार्य हुआ है कार्य के लिए टेंडर हुआ है जबकी शासन प्रशासन से राशि आई ही नहीं  तो अन्य मद में खर्चा होने का सवाल ही नहीं उठता  इन दोनों अखबार के समाचारों से प्रतीत होता है कि सत्ताधारी पक्ष एवं विधानसभा क्षेत्र के विधायक को बदनाम करने की नियत है गलत एवं भ्रामक समाचार छापकर नगर वासियों को गुमराह किया गया है !

जबकि समाचार पत्र में प्रकाशन करने से पहले संवाददाता एवं संपादक के द्वारा संबंधित अधिकारी से इस संबंध में पूछताछ कर उसका पक्ष को जानना चाहिए परंतु संपादक एवं संवाददाता ने नगर पालिका अधिकारी से इस संबंध में किसी प्रकार की कोई जानकारी न लेकर केवल बदनाम करने की नियत से ही समाचार प्रकाशन किया है !

इस संबंध में मुख्य नगरपालिका अधिकारी प्रवीण गहलोत ने बताया कि नगर पालिका एवं सत्ताधारी अध्यक्ष को बदनाम करने की नियत से गलत एवं भ्रामक समाचार प्रकाशन किया गया है नगर पालिका द्वारा समाचार के संपादक को नगरपालिका अधिवक्ता के माध्यम से विधिक नोटिस प्रेषित की जा रही है एवं आवश्यकता होने पर उनके विरुद्ध फौजदारी एवं दीवानी मामला भी सक्षम न्यायालय में प्रस्तुत किया जाएगा

इस संबंध में मुख्य नगरपालिका अधिकारी प्रवीण गहलोत ने  बताया कि आरोप बेबुनियाद हैं। मंडी बनाने हेतु स्वीकृति नही मिली थी और  राशि भी प्राप्त नहीं हुई है  नगर पालिका अधिकारी ने कहा कि नगरपालिका पर लगाए जा रहे सारे आरोप बेबुनियाद हैं तथा यह  सब स्वार्थ सिद्ध नहीं होने पर सिर्फ बदनाम करने, असहयोग करने एवं नगर विकास में बाधा उत्पन्न करने की कोशिश के रू प में किया जा रहा है। शासन से प्राप्त पत्र क्रमांक  का जवाब भेज दिया गया है !