लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाने की घोषणा, पीएम ने सात बातों पर मांगा समर्थन, 20 अप्रैल को प्रतिबंधों की समीक्षा

 लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाने की घोषणा, पीएम ने सात बातों पर मांगा समर्थन, 20 अप्रैल को प्रतिबंधों की समीक्षा

नईदिल्ली।  कोरोना वायरस महामारी पर अपने 5वें भाषण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘भारत’, ‘कोरोना वायरस’ और ‘लॉकडाउन’ शब्दों का सबसे ज्यादा बार प्रयोग किया।  24 मिनट के भाषण में इन तीन शब्दों का सबसे ज्यादा बार दोहराव हुआ और पूरी बातचीत इन्हीं पर फोकस रही. इस भाषण में उन्होंने लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाने की घोषणा भी की.

14 अप्रैल को तालाबंदी के पहले चरण का आखिरी दिन था, और जैसा कि अपेक्षित था, पीएम मोदी ने लॉकडाउन को 19 दिनों के लिए बढ़ा दिया. कोरोनो वायरस मामलों की बढ़ती संख्या के कारण राज्य सरकारों ने भी लॉकडाउन बढ़ाने की मांग की थी. पीएम के आज के भाषण में ‘भारत’ अथवा ‘देश’ शब्द 31 बार आया यानी भाषण का फोकस देश पर था।  इसके बाद ‘कोरो नावायरस’ 25 बार और ‘लॉकडाउन’ 12 बार आया। 

प्रधानमंत्री ने ‘जनता’ और ‘समस्या’ जैसे शब्दों का 8 बार उच्चारण किया, जबकि ‘वैश्विक’ शब्द का 7 बार प्रयोग किया. अगर पीएम के पिछले भाषण से इस भाषण की तुलना करें तो इस बार के भाषण में कुछ नये शब्दों को जगह मिली जैसे ‘हॉटस्पॉट’, ‘आरोग्य सेतु’, ‘स्क्रीनिंग’, ‘इम्युनिटी’ और ‘वैज्ञानिक’. वरिष्ठ नागरिकों की विशेष देखभाल पर जोर देते हुए पीएम मोदी ने लोगों से आयुष मंत्रालय द्वारा जारी सलाह का पालन करने और आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करने का आग्रह किया। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में सरकार की मदद के लिये आने वाले दिनों में लोगों से सात बातों पर समर्थन मांगा ताकि इस महामारी को परास्त किया जा सके ।

प्रधानमंत्री ने लोगों से ‘सप्तपदी’ मार्ग का पालन करने की अपील की जिसमें बुजुर्गो का ध्यान रखने, सामाजिक दूरी का पालन करने, गरीबों के प्रति संवेदनशीलता का परिचय देने, बाहर निकलते समय अपना चेहरा कपड़े से ढकना आदि शामिल है ।

राष्ट्र के नाम संबोधन में मोदी ने कहा, ‘‘ हम धैर्य बनाकर रखेंगे, नियमों का पालन करेंगे तो कोरोना जैसी महामारी को भी परास्त कर पाएंगे। इसी विश्वास के साथ मैं आज 7 बातों में आपका साथ मांग रहा हूं । ’’ उन्होंने मंगलवार को देशव्यापी लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाने की घोषणा की ताकि महामारी से मुकाबला किया जा सके । उन्होंने कहा कि संक्रमण को रोकने में लॉकडाउन के अच्छे परिणाम सामने आए हैं ।

मोदी ने सात बातों के तहत कहा कि पहली बात यह है कि अपने घर के बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखें । विशेषकर ऐसे व्यक्ति जिन्हें पुरानी बीमारी हो, हमें उनका ज्यादा ध्यान रखना है, उन्हें कोरोना से बहुत बचाकर रखना है ।

उन्होंने कहा कि दूसरी बात यह है कि लॉकडाउन और सामाजिक दूरी की लक्ष्मण रेखा का पूरी तरह पालन करें, घर में बने चेहरा ढकने के मास्क का अनिवार्य रूप से उपयोग करें प्रधानमंत्री ने लोगों से अपनी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए, आयुष मंत्रालय द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करने तथा गर्म पानी, काढ़ा आदि का निरंतर सेवन का सुझाव दिया ।


उन्होंने लोगों से आरोग्य सेतु मोबाइल एप जरूर डाउनलोड करने और दूसरों को भी इसके लिये प्रेरित करने को कहा ।

मोदी ने कहा कि जितना हो सके उतने गरीब परिवारों की देखरेख करें, उनके भोजन की आवश्यकता पूरी करें तथा आप अपने व्यवसाय, अपने उद्योग में अपने साथ काम करने वाले लोगों के प्रति संवेदना रखें, किसी को नौकरी से न निकालें ।

उन्होंने कहा कि डाक्टरों, नर्सो, सफाई कर्मियों, पुलिस कर्मियों सहित देश के कोरोना योद्धाओं का पूरा सम्मान करें ।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘ पूरी निष्ठा के साथ 3 मई तक लॉकडाउन के नियमों का पालन करें, जहां हैं, वहां रहें, सुरक्षित रहें। वयं राष्ट्रे जागृयाम”, हम सभी राष्ट्र को जीवंत और जागृत बनाए रखेंगे । ’’

chandra shekhar