breaking news New

सामाजिक न्याय के संबंध में विधिक सेवा प्राधिकरण की भूमिका बेहद महत्वपूर्ण

सामाजिक न्याय के संबंध में विधिक सेवा प्राधिकरण की भूमिका बेहद महत्वपूर्ण

दुर्ग।  लोकतंत्र के स्तंभों के बीच आपस में समन्वय बेहद जरूरी है जिससे लोकतंत्र मजबूत होता है। मीडिया एक महत्वपूर्ण स्तंभ है। न्यायपालिका लोगों को न्याय दिलाने का कार्य करती है। इसके लिए लोगों में जागरूकता फैले, उन्हें न्यायिक मदद मिल पाए, इस दृष्टि से विधिक सेवा प्राधिकरण कार्य करता है। प्राधिकरण के कार्यों को अधिकाधिक लोगों तक पहुंचाने के लिए मीडिया की भूमिका महत्वपूर्ण है। यह बात जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष एवं जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री राजेश श्रीवास्तव ने प्रेस वार्ता में कही। 

उन्होंने कहा कि आर्थिक रूप से कमजोर व्यक्ति को न्याय मिले, इसके लिए प्राधिकरण के माध्यम से निःशुल्क अधिवक्ता उपलब्ध कराए जाते हैं। प्राधिकरण लोगों द्वारा मिली शिकायतों को संज्ञान में लेता है और उस पर नियमानुसार कार्रवाई करता है। उन्होंने कहा कि दुर्ग में लीगल लिट्रेसी के संबंध में विभिन्न कार्यक्रम चलाये जाने की योजना है। उन्होंने नालसा की योजनाओं के संबंध में भी विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि नालसा की अनेक योजनाएं हैं जिनसे पीड़ितों को आर्थिक मदद मिलती है। कार्यशालाओं के माध्यम से इनकी जानकारी दी जाती है। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण नियमित रूप से ऐसे मामलों में राहत पहुंचाता है। उन्होंने कहा कि दुर्ग जिले में ट्रैफिक के नियमों के संबंध में जानकारी देने पैरालीगल वालंटियर द्वारा अभियान चलाया जाएगा।

 उन्होंने कहा कि प्राधिकरण के दायित्वों के संबंध में और कार्यक्षेत्र के संबंध में मीडिया को विस्तार से जानकारी आज बैठक में दी गई है। आप लोगों की ओर से भी जनसरोकारों को रखा जाएगा और प्राधिकरण इस पर अविलंब कार्रवाई करेगा। श्रीवास्तव ने कहा कि मानसिक रूप से विक्षिप्त लोगों के संबंध में राहत देने प्राधिकरण कार्य करता है। इस दिशा में भी कार्रवाई जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि नशे की दुष्प्रवृत्ति से बचाने भी विशेष अभियान चलाया जाएगा। उन्होंने कहा कि विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्य बेहद महत्वपूर्ण हैं और सामाजिक न्याय दिलाने की दिशा में इनका अहम योगदान है। हम लगातार लीगल लिट्रेसी के लिए कार्यशालाएं करते हैं। मीडिया का सहयोग इसके प्रचार प्रसार में मिलता रहता है। 

इस प्रकार कार्यशाला में बताई गई बातों को बहुत विस्तार मिलता है। उन्होंने कहा कि समय-समय पर मीडिया के साथ वर्कशाप का आयोजन भी प्राधिकरण द्वारा किया जाएगा। इन आयोजनों में लीगल लिट्रेसी के संबंध में विस्तार से जानकारी दी जाएगी। साथ ही मीडिया के लिए भी जो उपयोगी बिन्दु हैं उन्हें भी विस्तार से बताया जाएगा। इस मौके पर उन्होंने अपने जांजगीर के विधिक सेवा संबंधी अनुभवों के बारे में भी बताया। बैठक में प्राधिकरण के सचिव  राहुल शर्मा, सीजेएम  मोहन सिंह कोर्राम भी उपस्थित थे।