breaking news New

दीपावली के मद्देनजर पुलिस की जुआरियों पर होगी पैनी नजर

दीपावली के मद्देनजर पुलिस की जुआरियों पर होगी पैनी नजर

चांपा एसडीओपी थाना प्रभारी हुए चौकन्ने

चांपा, 3 नवंबर। हिंदू परंपरा अनुसार वर्ष का सबसे बड़ा त्योहार दीपावली के अवसर पर है और इसी त्योहार की आड़ में कुछ तथाकथित लोगों द्वारा जमकर जुआ का खेल खेला जाता है जो कि मान सम्मान तथा परिवार के लिए हमेशा घातक साबित होता है इसी के मद्देनजर चांपा एसडीओपी तथा थाना प्रभारी की टीम द्वारा चांपा थाना क्षेत्र का जमकर सघन निरीक्षण किया जा रहा है। 

ज्ञात हो कि अब से कुछ रोज बाद भारतीय परंपरा अनुसार  वर्ष का सबसे बड़ा त्योहार के रूप में दिवाली आने को है और इस अति महत्वपूर्ण त्यौहार को लोग धूमिल बनाने के लिए जूआ जैसे आदत को अपने परिवार के लिए आफत बना लेते हैं। इसी के मद्देनजर चांपा थाना स्तर पर अनुविभागीय अधिकारी पदम् श्री तंवर एसडीओपी थाना प्रभारी राजेश चौधरी के द्वारा टीम गठित कर चारों तरफ जैसे आसपास के ग्रामीण क्षेत्र जिसमें चांपा सिवनी कुरदा अमझर महुदा कमरीद कोसमंदा आदि ग्रामीण क्षेत्रों में लगातार निरीक्षण के साथ साथ मुख् वीरों को लगा दिया गया है जहां जुआ जैसे संदिग्ध गतिविधि पाए जाने पर तत्काल इसकी सूचना मिल सके और पुलिस टीम के द्वारा ताबड़तोड़ कार्यवाही कर ऐसे जुआरियों को धर दबोचा जा सके जो इस महत्वपूर्ण त्यौहार को बदरंग बनाने में लगे होते हैं उनके इन सामाजिक बुराई के चलते जहां वे स्वयं आर्थिक समस्याओं से जूझते हैं, तो वहीं दूसरी ओर पूरा परिवार को आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसके साथ ही जुआ के लत के कारणों से कई प्रकार के अपराधिक घटनाओं का जन्म भी होता है, जिसे लेकर चांपा थाना के अधिकारियों द्वारा चौकसी बढ़ा दी गई है और आसपास के तालाब नहर किनारे तथा सुनसान क्षेत्रों में चौकसी बढ़ाते हुए निगरानी में रखी गई है यदि इसी प्रकार के जुआ संबंधी गतिविधियों की जानकारी मिलती है तो उस पर तत्काल कार्यवाही करने की बात अधिकारियों द्वारा कही गई है।

होटल और ढाबों में सतत निरीक्षण

दिवाली के त्यौहार में चांपा तथा आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों से जुआरियों का एक माहौल देखने को मिलता है जो सुनसान जगहों में जुआ का फंड बनाकर लाखों का जुआ खेला जाता है इस खेल में जांजगीर-चांपा जिला सहित दिगर जिला के रमे हुए खिलाड़ियो का आगमन को देखते हुए पुलिस प्रशासन के द्वारा विशेष निगाह रखी गई है क्योंकि शाम ढलते ही अन्य जिलों से बावन परियों के शौकीनो का जांजगीर-चांपा जिले में आने का सिलसिला प्रारंभ हो जाता है और फिर जुआ का फड लगता है जहां कई किस्म के अपराधिक गतिविधियों का जन्म होने से जिले का कानून व्यवस्था छिन्न-भिन्न होता है जिसको देखते हुए जांजगीर-चांपा जिले के अंदर तथा बाहर संचालित होटल एवं ढाबों में विशेष निगरानी रखी जा रही है और मुख वीरों को सजग कर दिया गया है।