breaking news New

प्रदूषण वाले प्लांट स्थापना के विरोध में किसानों ने मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

प्रदूषण वाले प्लांट स्थापना के विरोध में किसानों ने मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

किसान नेता योगेश तिवारी के नेतृत्व में क्षेत्र के किसान हुए लामबंद, जताया विरोध

किसान नेता के अनुसार सरकार उद्योगपतियों को फूड प्रोसेसिंग प्लांट की स्थापना में करें मदद

बेमेतरा,    विधानसभा क्षेत्र के ग्राम नेवनारा में स्टील और पावर प्लांट स्थापना के विरोध में ग्रामीणों ने बेमेतरा कलेक्टर भोसकर विलास संदीपान को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नाम ज्ञापन सौंपा ।  किसान नेता योगेश तिवारी के नेतृत्व में नेवनारा और आसपास के दर्जनभर गांव के किसान कलेक्टोरेट पहुंचे थे ।  यहां उन्होंने कलेक्टर से प्रदूषण वाले उद्योगों को नेवनारा सहित आस-पास के गांव में स्थापना की अनुमति नहीं दिए जाने का आग्रह किया ।  इस दौरान किसान नेता योगेश तिवारी ने कहा कि बेमेतरा विधानसभा कृषि प्रधान क्षेत्र है । बेमतरा ज़िला बनने के बाद से यहा के किसानों की ओर से लगातार प्रदूषण मुक्त फूड प्रोसेसिंग प्लांट लगाने की मांग की जाती रही । यह प्लांट लगाना तो दूर इसके विपरीत प्रदूषण युक्त स्टील और पावर प्लांट स्थापना की तैयारी की जा रही है, जो इस कृषि प्रधान जिले के घातक साबित होगा । इसलिए क्षेत्र में प्लांट स्थापना की अनुमति नहीं दिए जाने को लेकर मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा गया है । इस दौरान हरीश बंछोर, देवेंद्र जैन, प्रमिला साहू सरपंच नेवनारा, रीता शर्मा, उत्तरा मयाराम साहू, दशरथ, मनोज तिवारी, हरिश्चंद्रघृत लहरें, गोलू निषाद, राजेश निषाद, चेतन शर्मा, राजेंद्र मारकंडे, राजकुमार जगत, राम अजय मिश्रा, पीयूष शर्मा, कमलेश सेन, मनीराम सिन्हा, मनोज दुबे, रामकुमार, सुरेंद्र कुमार, जगन्नाथ चेतन, दशरथ, लक्ष्मण, राजू, गोलू वर्मा, नारायण वर्मा, टेकराम साहू, पोषण यदु, जीवन गायकवाड, इतवारी, आत्माराम, लोकेश साहू, रोहित लहरें, मान सिंह पाटिल, तिलक पाटिल, सालिक साहू, चिंताराम बंछोर, कमल साहू, मनोज बंजारे, राजेश जांगड़े, नैना देवी मांडले, उत्तरा महेश्वरी आदि उपस्थित थे । 

फूड प्रोसेसिंग प्लांट लगाने की मांग को दरकिनार कर, प्रदूषण वाले प्लांट की स्थापना की तैयारी 

किसानों  फूड प्रोसेसिंग प्लांट लगाने की मांग को दरकिनार कर क्षेत्र में स्टील और पावर प्लांट स्थापना को लेकर उद्योगपति सक्रिय हुए हैं । इससे किसानों में खासी नाराजगी है, क्योंकि कृषि प्रधान जिले में कृषि संबंधित उद्योगों की स्थापना को गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है । किसान नेता योगेश तिवारी ने बताया कि हाल में ही रायपुर की एक निजी कंपनी ग्राम नेवनारा में स्टील प्लांट स्थापना के लिए ज़मीन खरीदी है । प्लांट स्थापनाा के विरोध में नेवनारा और आसपास के गांव के ग्रामीण लामबंद हो गए हैं ।  इस संबंध में 15 अगस्त को ग्राम पंचायत नेवनारा में आयोजित ग्राम सभा में गांव में स्टील प्लांट स्थापना की अनुमति नहीं दिए जाने का प्रस्ताव पारित हुआ है । 

फूड प्रोसेसिंग प्लांट को दे प्राथमिकता, किसानों की मांग करें पूरा

किसान नेता के अनुसार स्टील और पावर प्लांट जैसे प्रदूषण वाले उद्योग की स्थापना से कृषि कार्य को काफी नुकसान पहुंचता है । इसके अलावा कई किलोमीटर की रेंज में रहने वाले आमजनों पर स्वास्थ्य समस्याएं उत्पन्न होने लगती हैं । इन उद्योगों की स्थापना से प्रदूषण के कारण एक ओर जहां जमीन बंजर होने लगती है, वही अम्लीय वर्षा के कारण फसल को काफी नुकसान पहुंचता है ।  इसके अलावा उद्योगों के संचालन के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी की जरूरत होती है ।  ऐसी स्थिति में उद्योग प्रबंधन द्वारा भूजल या जलाशयों से पानी लिया जाएगा, जो किसानों के लिए हितकर नहीं है ।  इसलिए क्षेत्र के किसान प्लांट स्थापना का पुरजोर विरोध कर रहे हैं । किसान नेता के अनुसार क्षेत्र में कृषि संबंधित फूड प्रोसेसिंग प्लांट की स्थापना को प्राथमिकता दिए जाने और प्रदूषण वाले स्थान उद्योगों की स्थापना की अनुमति नहीं दिए जाने को लेकर किसान संगठन,  समाजसेवी संस्था समेत अन्य संगठन इकट्ठा होंगे और आगे की रणनीति बनाई जाएगी ।