breaking news New

Exclusive : चीन का खेतों में हमला, 'स्टड इयररिंग्स नामक वायरस का ईजाद किया, अमरीका ने तीन राज्यों में लगाया प्रतिबंध!

Exclusive : चीन का खेतों में हमला, 'स्टड इयररिंग्स नामक वायरस का ईजाद किया, अमरीका ने तीन राज्यों में लगाया प्रतिबंध!

वाशिंगटन. कोरोना वायरस का तथाकथित जन्मदाता माने जा रहे चीन ने अब खेतों को भारी नुकसान पहुंचाने वाले अनोखे बीज का निर्माण किया है जिसे वह षडयंत्रपूर्वक सभी देशों में किसी और आर्डर के बहाने भेज रहा है. अमरीका ने ऐसे एक हजार से ज्यादा सेंपल जब्त किए हैं और किसानों तथा कृषि वैज्ञानिकों को आगाह करते हुए इसकी जांच करने के निर्देश दिए हैं. कृषकों को भी कहा गया है कि चीन से आने वाले कृषि बीजों को पहले परीक्षण कराकर ही खेतों में रोपण करें.

यूएसडीए के प्लांट हेल्थ डायरेक्टर मैथ्यू ट्रैविस ने बताया कि मैरीलेंड, वर्जीनिया में कृषि वैज्ञानिकों ने ऐसे 987 सेंपल जब्त किए हैं. वर्जीनिया में कृषि और उपभोक्ता सेवाओं के विभाग ने बताया कि जो सेंपल चीन के अलग अलग शहरों से भेजे गए हैं, उनमें पता चला है कि आनलाइन आर्डर किसी और बीज का दिया गया था और भेजा कुछ और गया है. इन्हें 'स्टड इयररिंग्स' के नाम से जाना जाता है. एक किसान ने बताया कि आखिरी स्टड इयररिंग्स मैंने ऑर्डर किया था, कुछ साल पहले थे, लेकिन इन्हें आने में नौ महीने से ज्यादा का समय लग गया. मैंने इसे खोला तो बड़ा अजीब सी गंध महसूस हुई. आश्चर्य कि सभी सैंपलों में एक समान बीज थे और उन्हें 24 घण्टे के अंदर इस्तेमाल करने के निर्देश थे.

इधर जब इन्हें लेबोरेटरी में जांचा गया तो कृषि वैज्ञानिक हतप्रभ रह गए. इन बीजों में कार्बेण्डाजिम, मैलाथियान तथा कार्बोफ्यूरॉन की मिलावट चार गुना ज्यादा की गई थी जो फसलों और स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकते हैं. फिलहाल तीन राज्यों की सरकार ने किसानों को ऐसे बीज प्राप्त करने के बाद पहले जांच कराने के लिए संपर्क और फोन नंमबर जारी किए हैं और उपयोग न करने की चेतावनी दी है. अमेरिकी कृषि विभाग और होमलैंड सुरक्षा विभाग चीन से आए अनचाहे बीजों के रहस्यमय मामले की जांच कर रहे हैं.

विभाग के एक प्रवक्ता माइकल वालेस का कहना है कि निवासियों को बीज नहीं लगाना चाहिए, और इसके बजाय उन्हें रखना चाहिए और उन राज्य अधिकारियों से संपर्क करना चाहिए, जो जांच के दौरान संघीय एजेंसियों के साथ काम कर रहे हैं। "सीड्स इनवेसिव प्रजाति का हो सकता है," वालेस कहते हैं। "आक्रामक प्रजातियां पर्यावरण पर कहर बरपाती हैं, देशी पौधों और कीड़ों को विस्थापित और नष्ट करती हैं और फसलों को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचाती हैं. इनका असर इतना व्यापक है कि ये खेतों को और मनुष्य के शरीर को बंजर कर देती हैं. यूएसडीए के प्रवक्ता सीसिलिया सेकेरा कहते हैं कि संयुक्त राज्य अमेरिका के लोगों को असमान बीज मेलिंग करना एक भयावह साजिश है, हमारे लोकतंत्र का गला घोंटने के लिए आक्रामक पौधों के मार्फत हमला किया जा रहा है.