breaking news New

वयोवृद्ध सामाजिक कार्यकर्ता पद्मश्री राधामोहन का निधन, उपराष्ट्रपति व पीएम मोदी ने जताया शोक

वयोवृद्ध सामाजिक कार्यकर्ता पद्मश्री राधामोहन का निधन, उपराष्ट्रपति व पीएम मोदी ने जताया शोक


भुवनेश्वर 11 जून। वयोवृद्ध सामाजिक कार्यकर्ता, गांधीवादी एवं प्रख्यात पर्यावरणविद् पद्मश्री राधामोहन का ओडिशा में भुवनेश्वर के एक निजी अस्पताल में शुक्रवार को निधन हो गया।

पारिवारिक सूत्रों ने आज यहां बताया कि प्रोफेसर राधामोहन काफी समय से बीमार थे और उन्हें निमोनिया के इलाज के लिए निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अस्पताल में इलाज के दौरान आज उनका निधन हो गया। वह 78 वर्ष के थे।

वह पुरी के एससीएस कॉलेज से अर्थशास्त्र प्रोफेसर के रूप में सेवानिवृत्त हुए। सूचना आयुक्त के रूप में नियुक्ति से पहले उन्होंने राज्य पर्यावरण विभाग में अपनी सेवा दी।

प्रो. राधामोहन और उनकी बेटी साबरमती को पिछले वर्ष ओडिशा के नयागढ़ जिले में बंजर भूमि पर पेड़-पौधे लगाकर उसे हरे भरे जंगल में बदलने के लिए पद्म श्री से सम्मानित किया गया था।

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने प्रोफेसर राधामोहन के निधन पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “गांधीवादी और पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित प्रोफेसर राधामोहन के निधन के बारे में जानकर गहरा दुख हुआ।”

उन्होंने कहा, “अर्थशास्त्री से पर्यावरणविद बने प्रोफेसर राधामोहन का दीर्घकालिक जैविक खेती में विशिष्ट योगदान था। शोक संतप्त परिवार के सदस्यों और शुभचिंतकों के प्रति संवेदना।”

पीएम मोदी ने जताया शोक


पीएम मोदी  ने प्रोफेसर राधामोहन के निधन पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, प्रोफेसर राधामोहन जी कृषि के प्रति विशेष रूप से स्थायी और जैविक प्रथाओं को अपनाने के प्रति गहरे जुनूनी थे। उन्हें अर्थव्यवस्था और पारिस्थितिकी से संबंधित विषयों पर उनके ज्ञान के लिए भी सम्मानित किया गया था। उनके निधन से दुखी हूं। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति संवेदना। शांति।

पद्मश्री प्रो. राधामोहन के निधन पर उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने जताया शोक

पद्मश्री प्रो. राधामोहन के निधन पर नायडू ने जताया शोक

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने प्रख्यात पर्यावरणविद् एवं अर्थशास्त्री पद्मश्री प्रोफ़ेसर राधा मोहन के निधन पर गहरा शोक प्रकट किया है।

श्री नायडू ने शुक्रवार को यहां जारी एक संदेश में कहा कि प्रोफेसर राधामोहन का सतत जैविक कृषि के विकास में महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

श्री नायडू ने कहा, "ओडिशा के प्रख्यात पर्यावरणविद और अर्थशास्त्री प्रोफेसर राधामोहन जी के निधन पर उनको विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं और उनके परिजनों तथा सहयोगियों के प्रति हार्दिक शोक संवेदना व्यक्त करता हूं। पर्यावरण संरक्षण के लिए जैविक खेती को बढ़ावा देने में आपकी महत्वपूर्ण भूमिका रही।"