breaking news New

पाकिस्तान में कोरोना वायरस के भारतीय स्वरूप का नहीं आया है कोई मामला

पाकिस्तान में कोरोना वायरस के भारतीय स्वरूप का नहीं आया है कोई मामला

इस्लामाबाद । पाकिस्तान में कोरोना वायरस के भारतीय स्वरूप का अब तक कोई मामला नहीं आया है। योजना मंत्री और राष्ट्रीय स्तर पर कोविड-19 से निपटने के लिए बनायी गयी केंद्रीकृत संस्था नेशनल कमांड एंड ऑपरेशन सेंटर (एनसीओसी) के प्रमुख असद उमर ने उन खबरों को भी सोमवार को खारिज किया कि वायरस का भारतीय स्वरूप देश से थाईलैंड पहुंचा है। खबरों के अनुसार थाईलैंड से स्वास्थ्य अधिकारियों ने सोमवार को कोरोना वायरस के भारतीय स्वरूप के पहले मामले की पुष्टि की। यह वायरस एक थाई महिला और उसके चार साल के बेटे में पाया गया है। दोनों पाकिस्तान से लौटने के बाद पृथक-वास में हैं। कोरोना वायरस की नयी लहर से जूझने के बीच थाईलैंड में यह मामला सामने आया है। इन खबरों पर प्रतिक्रिया करते हुए उमर ने कहा कि यह संभव नहीं है कि पाकिस्तान से गये दो थाई नागरिक कोरोना वायरस के भारतीय स्वरूप से संक्रमित हुए हों, क्योंकि देश में अब तक इस स्वरूप का कोई मामला नहीं आया है। डॉन अखबार ने उमर के हवाले से कहा कि ब्रिटेन, ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका के स्वरूप के कुछ मामले देश में सामने आये हैं, लेकिन भारतीय स्वरूप का एक भी मामला सामने नहीं आया है। वायरस के भारतीय स्वरूप का सबसे पहले पता पिछले साल अक्टूबर में महाराष्ट्र में चला था। वायरस का यह स्वरूप कम से कम 21 देशों में देखा गया है। इसका आधिकारिक नाम बी.1.617 है। उमर ने कहा, ''यह हो सकता है कि महिला थाईलैंड या कहीं और उस वायरस से संक्रमित हुई हो। पाकिस्तान में कहीं भी वायरस के भारतीय स्वरूप का मामला सामने नहीं आया है। थाईलैंड ने कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए थाई नागरिकों को छोड़कर भारत से आने वाले किसी भी व्यक्ति के देश आने पर एक मई से प्रतिबंध लगा दिया है।