breaking news New

RTO कार्यालय में प्रर्दशन मामले में BJP नेताओं को मिली जमानत

RTO कार्यालय में प्रर्दशन मामले में BJP नेताओं को मिली जमानत

जगदलपुर । आरटीओ कार्यालय में प्रदर्शन करने पर परिवहन अधिकारी द्वारा भाजपा मंडल अध्यक्ष सुरेश गुप्ता, मनोहर दत्त तिवारी, रवि कश्यप और रघु सेठिया के विरूद्ध आदिवासी प्रताडऩा का मामला दर्ज करवा दिया था। चूकि रवि कश्यप आदिवासी वर्ग से होने के कारण निचली अदालत ने उन्हे जमानत दे दी थी, बाकी सामान्य वर्ग के होने के कारण उन्हे जमानत नही दिया। इस मामले में उच्च न्यायालय ने उक्त सभी भाजपा नेताओं को जमानत मिल गई है, संभवत: आज न्यायालयीन कार्यवाही के बाद केंद्रिय जेल जगदलपुर से छूटेंगेे। निगम के नेता प्रतिपक्ष संजय पांडे ने कहा कि यह जमानत सत्य पर न्यायालय की मुहर है, यद्यपि यह जमानत है परंतु इसका रिजल्ट भी बहुत जल्द बाइज़्जत बरी होकर आएगा। प्रशासनिक सहयोग से कांग्रेसी नेताओं के पाप को जरूर क्षणिक सफलता मिली है। जनता जनार्दन देख रही है सब कुछ समझ रही है और उसका फैसला ही अंतिम होगा।

निगम के नेता प्रतिपक्ष संजय पांडे ने कहा कि कांग्रेसी गुंडागर्दी और बदले की भावना से की गई 01 साल से भी अधिक पुराने मामले पर एका-एक संज्ञान लेकर प्रशासन ने कांग्रेसी गुंडागर्दी के आगे नतमस्तक होते हुए कार्रवाही की है। सभी को मालूम है आरटीओ कार्यालय में सभी गाडिय़ों से लूटपाट कर भारी रकम वसूली जा रही है, उसी भ्रष्टाचार के विरूद्ध आंदोलन करते हुए आरटीओ कार्यालय में ज्ञापन देना कोई गलत बात नहीं है।

उन्होने कहा कि यह लोकतंत्र में विपक्ष को अधिकार प्राप्त है, लेकिन कांग्रेस के आला नेताओं के हुक्म पर मामला दर्ज कर मनमाने ढंग से धाराएं लगाई गई और प्रतिष्ठा का विषय बनाते हुए जमानत पर भी अड़ंगे बाजी की जाती रही है।  एक तरफ  भ्रष्टाचारी कांग्रेसी पार्षद का चालान एक महीने के अंदर प्रस्तुत कर दिया जाता है तो दूसरी तरफ भ्रष्टाचार के विरूद्ध संघर्ष करने वाले नेताओं का चालान एक साल बाद भी प्रस्तुत नहीं होता है। यह बेहद शर्म की बात है कि कांग्रेस ने प्रतिष्ठा का विषय उन 41 पीडि़त महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए नहीं बनाया अपितु अपनी भ्रष्टाचारी पार्षद को बचाने के लिए उसे एक दिन भी जेल ना जाए, उसे बनाया और दूसरा प्रतिष्ठा का विषय बनाया की भ्रष्टाचार के विरूद्ध आंदोलन करने वाले नेताओं पर कैसे कार्रवाई हो, और वह जेल जाएं।