गौ सेवा : महापौर एजाज ढेबर की गौ सेवा, डेढ़ लाख रूपये दान किए, राजधानी को संदेश दिया कि लॉकडाउन में जानवरों की भी सुध लें खासकर गाय की

गौ सेवा : महापौर एजाज ढेबर की गौ सेवा, डेढ़ लाख रूपये दान किए, राजधानी को संदेश दिया कि लॉकडाउन में जानवरों की भी सुध लें खासकर गाय की

रायपुर. महापौर एजाज ढेबर ने आज राजधानी के गोकुल नगर स्थित गौठान में जाकर गौवंशों के रखरखाव का निरिक्षण किया और अपने हाथों से गौमाता को भोजन कराया. उन्होंने गौठान में गौवंश रक्षा और गौसेवा के कार्यों के लिये 1,50,000 रुपये का दान किया।

अभी जबकि कोरोना में पूरा शहर लॉकडाउन है तब गायों की सुध लेकर महापौर एजाज ढेबर ने अनुकरणीय उदाहरण प्रस्तुत किया है कि लाक्डाउन में खुद की चिंता तो करें ही, जानवरों विशेषकर गायों की सुध भी ली.

 जानते चलें कि छत्तीसगढ़ में सरकार गौशालाओं को लाखों रुपए का अनुदान देती है, लेकिन उनकी ऑडिट रिपोर्ट को जांचने का कोई सिस्टम नहीं होने के कारण प्रदेश में गायों की मौत हो रही है। गौसेवा आयोग गायों की देखरेख के लिए 20 लाख रुपए तक अनुदान देता है। सरकार से अनुदान लेने वाली गौशालाएं ऑडिट रिपोर्ट पेश करती हैं।

इस रिपोर्ट के आधार पर ही गौसेवा आयोग अनुदान जारी कर देता है। आयोग न तो इस रिपोर्ट को जांचता है, न ही कोई आपत्ति करता है। पशुपालन विभाग के आला अधिकारियों ने बताया कि पिछले दस साल में किसी भी गौशाला की ऑडिट रिपोर्ट पर कोई आपत्ति नहीं की गई।

प्रदेश में 115 गौशालाएं पंजीकृत हैं। इन गौशालाओं में सरकार के मानकों को पूरा करने वाली गौशालाओं को अनुदान दिया जाता है। 20 लाख रुपए अनुदान राशि में जानवरों के लिए शेड, पानी की व्यवस्था और बोरिंग कराना अनिवार्य होता है।