अपनी जमीन बचाने के चक्कर में प्रतियोगिता की राजनीति में फंस गईअकाली दल

अपनी जमीन बचाने के चक्कर में प्रतियोगिता की राजनीति में फंस गईअकाली दल

नईदिल्ली। किसान बिल के विरोध में शिरोमणी अकाली दल ने एनडीए गठबंधन  से  अपना नाता तोड़ लिया  है। लेकिन बीजेपी ऐसा नहीं मानती है।  बीजेपी का कहना है कि पंजाब में अपनी राजनीतिक जमीन बचाने के लिए अकाली दल ने ऐसा किया है। 

बीजेपी प्रवक्ता ने कहा कि  पंजाब में कांग्रेस की राजनीति मंडी आढ़तियों की है उसी रेस में अकाली दल भी कूद गया है। अकाली दल के एनडीए के बाहर हो जाने पर उन्होंने आगे कहा कि पंजाब में अपनी राजनीतिक जमीन बचाने के लिए अकाली दल वहां के प्रतियोगिता की राजनीति में फंस गई है. जबकि बिल पर कैबिनेट की बैठक में हरसिमरत कौर बादल मौजूद थी। 

वहीं, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शिरोमणि अकाली दल के राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) छोड़ने के कदम को बादल परिवार की राजनीतिक मजबूरी से भरा हताशा के मामला करार दिया है।  मुख्यमंत्री ने कहा है कि बादल परिवार के पास कृषि बिल को लेकर बीजेपी की सार्वजनिक आलोचना के बाद अकाली दल के पास प्रभावी रूप से कोई अन्य विकल्प नहीं बचा था