breaking news New

गढ़ रहे नवा छत्तीसगढ़ी, दो दिवसीय साहित्य महोत्सव में 67 साहित्यकार सम्मानित, पहली बार 50 किताबों का एक साथ मंच से विमोचन

गढ़ रहे नवा छत्तीसगढ़ी, दो दिवसीय साहित्य महोत्सव में 67 साहित्यकार सम्मानित, पहली बार 50 किताबों का एक साथ मंच से विमोचन


रायपुर। छत्तीसगढ़ी साहित्य महोत्सव के पहले जलसे में आप सबकी जानदार-शानदार और गरिमामय मौजूदगी ने हमारे हौसले में इज़ाफ़ा कर दिया है. अब यह आयोजन एक विराट पुस्तक मेले के साथ हर साल होगा. हम लोग इस आयोजन को और बेहतर करेंगे. आज 20 मार्च को आयोजन का दूसरा दिन है. आज भी अवश्य आइए.

मुख्य अतिथि शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, विधायक सत्यनारायण शर्मा और रविवि के कुलपति डॉ. केसरी लाल वर्मा ने छत्तीसगढ़ी में लिखी 50 किताबों का विमोचन किया।
वैभव प्रकाशन, शिक्षादूत प्रकाशन, छत्तीसगढ़ मित्र और अपना मोर्चा डॉट कॉम की ओर से मैग्नेटो मॉल के सामने स्थित होटल क्लार्क इन में आयोजित दो दिवसीय राज्य स्तरीय छत्तीसगढ़ी साहित्य महोत्सव शुक्रवार को शुरू हुआ।



 समारोह में वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. बिहारी लाल साहू की किताब- छत्तीसगढ़ी के खुजार यानी छत्तीसगढ़ को खोजने वाले, सत्यभामा आडिल की गोंठ, रामनाथ साहू की मंजीरा, सुशील भोले की ढेंकी जैसी किताबाें का विमाेचन हुआ। इस माैके पर 67 साहित्यकारों का सम्मान भी किया गया। कार्यक्रम में राजकुमार सोनी, सुधीर शर्मा, सत्य प्रकाश सिंह सहित अन्य मौजूद रहे।

शनिवार को होटल क्लार्क इन में शाम 5 से रात 10 बजे तक कार्यक्रम होगा। एंट्री फ्री है। यहां हिंदी में छत्तीसगढ़ी की आवाजाही... विषय पर चर्चा होगी। सांस्कृतिक कार्यक्रम के तहत जोशी बहनें लोकगीतों की प्रस्तुति देंगी।



जोशी बहनों ने गाया- अरपा पैरी के धार...
इनॉग्रेशन पर जोशी बहनों ने राजगीत अरपा पैरी के धार... की सुरीली प्रस्तुति दी। कार्यक्रम में साहित्यकार दुर्गा प्रसाद पारकर, मोर चिन्हारी छत्तीसगढ़ी... लिखा कुर्ता पहनकर पहुंचे, यहां उन्हें शिवनाथ स्वाभिमान सम्मान से नवाजा गया।
समारोह में 11 हस्तियों को महानदी शिखर सम्मान, 15 को शिवनाथ स्वाभिमान सम्मान, 11 महिलाओं को कौशल्या सम्मान, 15 हस्तियों को महाप्रसाद सम्मान और 15 को हरेली युवा सम्मान से नवाजा गया। समारोह में डॉ. परदेशी राम, डॉ. बिहारी लाल, डॉ. नंदकिशोर तिवारी, डॉ. सत्यभामा आडिल सम्मानित हुए।